होम > नौकरियां

डीयू में स्थायी नौकरी पाने का मौका, असिस्टेंट प्रोफेसर फिजिकल एजुकेशन के लिए सकरुलर जारी

डीयू में स्थायी नौकरी पाने का मौका, असिस्टेंट प्रोफेसर फिजिकल एजुकेशन के लिए सकरुलर जारी

असिस्टेंट प्रोफेसर बनने का सपना देख रहे युवाओं के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय में नौकरी पाने का मौका है। दिल्ली विश्वविद्यालय के असिस्टेंट रजिस्ट्रार (कॉलेजिज) ने सभी कॉलेजों के प्रिंसिपलों को एक अति महत्वपूर्ण सकरुलर जारी किया है। इस सकरुलर में कहा गया है कि दिल्ली विश्वविद्यालय के कालेजों में फिजिकल एजुकेशन तथा स्पोर्ट्स साइंस के विभागों में असिस्टेंट प्रोफेसर के रिक्त पदों को स्थायी रूप से भरा जाना है।



साथ ही इस संदर्भ में उचित प्रक्रिया के अंतर्गत इन पदों का स्थायीकरण भी किया जाना है । सकरुलर में स्पष्ट दिशा निर्देश दिए गए है कि असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों को पहले व दूसरे ट्रांच में भरा जाना सुनिश्चित किया गया है। इसमें रिजर्वेशन रोस्टर का कड़ाई से पालन करते हुए जल्द से जल्द भरा जाए ।


इस सकरुलर के आने से फिजिकल एजुकेशन स्पोर्ट्स विभागों में असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति प्रक्रिया के लिए रास्ता आसान हुआ है । शिक्षक संगठन दिल्ली टीचर्स एसोसिएशन ( डीटीए ) ने फिजिकल एजुकेशन टीचर्स को रोस्टर रजिस्टर में शामिल करने संबंधी सकरुलर जारी किए जाने पर खुशी जाहिर करते हुए वाइस चांसलर प्रोफेसर योगेश सिंह को धन्यवाद दिया है।


डीटीए ने दो सप्ताह पहले वाइस चांसलर को फिजिकल एजुकेशन टीचर्स को रोस्टर रजिस्टर में शामिल करने व आरक्षण देने के लिए पत्र लिखा था।


सकरुलर में लिखा है कि फिजिकल एजुकेशन की समस्या से संबंधित प्रश्न समय -समय पर विश्वविद्यालय द्वारा उठाए गए। सकरुलर में स्पष्ट लिखा है कि इन पदों को लेकर कॉलेज विश्वविद्यालय की जो भी स्थिति रही हो फिजिकल एजुकेशन, स्पोर्ट्स के खाली पड़े असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों को पहले और दूसरे ट्रांच (ओबीसी पदों की दूसरी किस्त ) भर दिया जाना सुनिश्चित किया गया है ।


उन्होंने स्पष्ट किया है कि इसमें रिजर्वेशन रोस्टर का कड़ाई से पालन करते हुए जिसे कॉलेज संस्थानों ने तैयार किया है उसका उचित अनुपालन करते हुए इन पदों को कॉलेज में स्वीकृत वर्कलोड के आधार पर ही इन पदों को जल्द से जल्द भरा जाना चाहिए ।


डीटीए के अध्यक्ष डॉ. हंसराज सुमन ने बताया है कि विश्वविद्यालय द्वारा भेजे गए सकरुलर में कहा है कि यह नियुक्ति उचित नियमों का पालन करते हुए की जानी चाहिए। उनका कहना है कि असिस्टेंट प्रोफेसर फिजिकल एजुकेशन के पदों को लंबे समय से कॉलेजों द्वारा रोके रखा गया था , कुछ कॉलेजों ने फिजिकल एजुकेशन डायरेक्टर तो कुछ ने असिस्टेंट प्रोफेसर का पद रखा था । साथ ही इसे रोस्टर रजिस्टर में शामिल नहीं कर रहे थे लेकिन इस सकरुलर के आने से फिजिकल एजुकेशन में असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों के लिए रास्ता खुल गया है ।


उन्होंने बताया है कि वाइस चांसलर को दो सप्ताह पूर्व पत्र लिखकर फिजिकल एजुकेशन टीचर्स को रोस्टर रजिस्टर में शामिल करने व कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसर फिजिकल एजुकेशन की पोस्ट निकाले जाने की मांग की थीं, जिसमें लिखा था कि कुछ कॉलेज असिस्टेंट प्रोफेसर फिजिकल एजुकेशन की पोस्ट न निकालकर उसके स्थान पर डायरेक्टर फिजिकल एजुकेशन की पोस्ट निकाल रहे हैं।