होम > अन्य

प्लास्टिक से पर्यावरण को नुकसान

प्लास्टिक से पर्यावरण को नुकसान

आइये जानते है प्लास्टिक पर्यावरण को किस प्रकार प्रदुषित करता है यह हमारे सेहत के लिए किस प्रकार हानिकारक होता है ,प्लास्टिक का कचरा पर्यावरण के लिए एक बड़ा खतरा है क्योंकि यह लंबे समय तक पर्यावरण में रहता है और सड़ता नहीं है, अंततः माइक्रोप्लास्टिक में बदल जाता है, जो पहले हमारे खाद्य स्रोतों और फिर मानव शरीर में प्रवेश करता है।

प्लास्टिक के अपघटित होने में अनेकों वर्ष लग जाता है अतः यह पर्यावरण के लिए हानिकारक होते हैं तथा पर्यावरण को प्रदूषित करते हैं। जब संश्लेषित पदार्थों को जलाया जाता है तो यह आसानी से पूरी तरह जल नहीं पाता है। इसे पूरी जलने में लंबा समय लगता है।

इससे मनुष्य के शारीरिक विकास व व्यवहार पर असर पड़ता है। इनसे कैंसर, मोटापा, हृदय संबंधी बीमारी आदि होने की संभावना होती है। प्लास्टिक  की बनी चीजें, जिनका हम सिर्फ एक ही बार इस्तेमाल कर करते है फिर  वह चीज  फेंक देते हैं। उसे सिंगल यूज प्लास्टिक कहा जाता है।

प्लास्टिक गर्मी और धूप में पिघलती है और उसके साथ जहरीली रासायनिक पदार्थ भी पिघलने लगता है जो खाने के साथ हमारे शरीर के अंदर जाकर केंसर को जन्म देता है,प्लास्टिक से बने बच्चो के खिलौने उनमे जिन रंगों का उपयोग होता है वह भी बहुत ज्यादा खतरनाक होता हैप्लास्टिक बैग से जुड़े कई नुकसान हैं जैसे कि जैव - अपघटन योग्य नहीं होना, सरंध्रता न होना, अतः पर्यावरण अनुकूल नहीं है। 

इसलिए हमे प्लास्टिक को कम से कम इस्तेमाल करना चाहिए,प्लास्टिक से वातावरण को गंभीर नुकसान होता है और इसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ता है,अगर प्लास्टिक का इस्तेमाल रोका जाए तो पर्यावरण में कई तरह का प्रदूषण कम हो सकता है और यह हमारी हेल्थ के लिए फायदेमंद साबित होगा।