होम > सेहत और स्वास्थ्य

सर्दियों में तिल के लड्डू खाने का महत्व

सर्दियों में तिल के लड्डू खाने का महत्व

आइये जानते है सर्दी के मौसम में तिल के लड्डू का महत्व महिला प्रसव के बाद तिल के लड्डू खाती हैं क्योंकि इससे शरीर गर्म रहता है, इससे शरीर का तापमान बढ़ जाता है और ठंड से बचाव होता  है। 

तिल के लड्डू में प्रचुर मात्रा में फाइबर और विटामिन B, E जिंक, आयरन, विटामिन बी6, विटामिन ई और सेलेनियम जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर को ऊर्जा देने और अंदरुनी रूप से शरीर को मजबूत बनाने का काम करते हैं। तिल गुड़ की तासीर गर्म होती है जो शरीर को ठंड से बचाने में मदद कर सकती है।

सर्दियों में खांसी और कफ की वजह से भी सांस लेने में दिक्कत आती है, ऐसे में उनके शरीर को गर्म रखने के लिए और कफ को बाहर निकालने के लिए रोज तिल के लड्डू असरदार साबित हो सकते हैं, इन लड्डुओं को दूध के साथ भी ले सकते हैं।

एक तिल का लड्डू 62 कैलोरी देता है। जिसमें से कार्बोहाइड्रेट 30 कैलोरी, प्रोटीन 5 कैलोरी और शेष कैलोरी वसा से आते हैं जो 29 कैलोरी है। एक तिल का  लड्डू में आपको 2,000 कैलोरी के एक मानक वयस्क आहार की कुल दैनिक कैलोरी आवश्यकता का लगभग 3 प्रतिशत प्रदान करता है। तिल में कैल्शियम, डाइटरी प्रोटीन और एमिनो एसिड होते हैं। जो हड्डियों को मजबूत बनाने का काम करते हैं, साथ ही यह आपकी मांसपेशियों के लिए भी फायदेमंद होते हैं।

तिल में ओमेगा 6 फैटी एसिड, फ्लेवोनोइड फेनोलिक एंटीऑक्सीडेंट जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो कि पाचन तंत्र और स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा माना जाता है, तिल वजन कम करने के लिए सहायक होती है।