होम > अन्य

आइए आज आप को अजवाइन के रहस्यमई गुड़ और औषधी के बारे में जाने

आइए आज आप को अजवाइन के रहस्यमई गुड़ और औषधी के बारे में जाने

आइए आज आप को अजवाइन के रहस्यमई गुड़ और औषधी के रूप में उपयोग किए जाने के सम्बन्ध में कुछ महत्त्वपूर्ण बातें बताते हैं।
अजवाइन को संस्कृत नाम यवानी  या अजमोदीका के नाम से भी जाना जाता है इसका प्रयोग संपूर्ण भारतवर्ष में प्राचीन काल से अवषधि के रूप में उपयोग में लाया जा रहा  है ।
इसे खाने से भूख ना लगने की समस्या से छुटकारा मिलता है प्रसूति के बाद  इसका सेवन स्त्री के लिए लाभकारी साबित होता है ।
नज़ला, सिरदर्द के लिए लाभकारी - गर्म पानी के साथ इसके चूर्ण के २-३ ग्राम सुबह शाम सेवन से नज़ला ,जुखाम ,सिरदर्द से रहत मिलती है।
खांसी के दौरान १ ग्राम अजवाइन को २ ग्राम मुलेठी के साथ पानी में उबाल कर काढ़े का  सेवन करने से खांसी से रहत मिलती है। 
एक चम्मच अजवाइन चूर्ण को आधा चम्मच फिटकरी और दही या छाछ में मिला कर सर में मलने से जुएं और लिखें मर जाती है ।
 खाना खाने के पश्चात् यदि  सीने में जलन हो तो १ ग्राम अजवाइन को १ बादाम के साथ चबा कर खाने से या पीस कर खाने से आराम मिलता है।