होम > विज्ञान और तकनीक

भारत ने किया सफल परिक्षण ऑटोनोमस ड्रोन का

भारत ने किया सफल परिक्षण ऑटोनोमस ड्रोन का

भारत ने अपने जंगी ड्रोन को सफल रूप देने की तरफ एक और कदम बढ़ा लिया है। एक सैन्य रूप से सफल राष्ट्र के पास अपने जंगी ड्रोन्स का बेड़ा होना बहुत ही आवश्यक है और इसको पूरा करने के लिए उसमे बहुत सी टेक्नोलॉजी का उपयोग करना पड़ता है जैसे की स्टेल्थ, ऑटोनोमस अदि। आज भारत ने अपने द्वारा विकसित Stealth Wing Flying Testbed नामक एक टेक्नोलॉजी डेमोंस्ट्रेटर ड्रोन का सफल परिक्षण किया है। ये देखने में बिलकुल ही एक पतले विंग जैसा लगता है। इस टेस्ट की सबसे अच्छी बात ये रही की ये ऑटोनोमस मोड पर किया गया यानि की पूरी उड़न इस ड्रोन ने खुद ही उड़ी और खुद ही अपने आपको लैंड करवाया। 

इससे सम्बंधित ट्वीट DRDO और रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह के द्वारा भी किया गया।  इसके बारे में जानकारी देते हुए DRDO ने होने व्यक्तव्य में कहा की 'इस ड्रोन ने पूर्णतः ऑटोनोमस मोड में ही उड़न भरी जो एकदम परफेक्ट थी, टेक-ऑफ, फ्लाइट और स्मूथ लैंडिंग के साथ।  ये उड़न एक बड़ा कदम है उन अत्यंत महत्वपूर्ण टेक्नोलॉजी को सिद्ध करने के लिए जो भविष्य की आत्मनिर्भर स्ट्रेटेजिक डिफेन्स टेक्नोलॉजी को बनाएंगी।'

ये ड्रोन या UAV एरोनॉटिकल डेवलपमेंट इस्टैब्लिशमेंट, बेंगलुरु द्वारा विकसित किया गया है। इसमें एक छोटा टर्बोफैन जेट इंजन लगा है। इसमें लगे एयरफ्रेम, फ्लाइट कण्ट्रोल सिस्टम, एवियोनिक्स इत्यादि पूर्णतः स्वदेशी हैं।
HT