होम > विज्ञान और तकनीक

मोबाइल की ब्लू लाइट,खराब करती है स्वस्थ ! कैसे ?

मोबाइल की ब्लू लाइट,खराब करती है स्वस्थ ! कैसे ?

आज बढ़ता वर्क फ्रॉम होम और हमारी गैजेट्स पर बढ़ती निर्भरता के कारण हम अपना ज्यादा से ज्यादा समय फोन , लैपटोप, टीवी पर बिता रहे हैं. जिस पर भले ही आप घर बैठे ऑफिस का काम कर पा रहे हो या फिर आपकी गैजेट्स से हर दम चिपकने की आदत आपका फुल टू एंटरटेनमेंट करने का काम करती हो. लेकिन रिसर्च के अनुसार आपमें से 64 पर्सेंट लोग इस बात से अनजान हैं कि इन गैजेट्स से निकलने वाली ब्लू लाइट आपकी सेहत के साथ-साथ आपकी स्किन को भी बिगाड़ने का काम करती है इसलिए जरा संभल जाएं.

रिसर्च के अनुसार, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से निकलने वाली ब्लू लाइट स्किन सेल्स को श्रिंक करने व उन्हें पूरी तरह से डैमेज करने का काम करती है. जो आपको समय से पहले बूढ़ा बनाने का काम करता है. आपको जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ एक घंटा इस लाइट के संपर्क में आने से आपकी स्किन में ये बदलाव हो जाता है. पिगमेंटेशन की समस्या भी आपको घेर लेती है. इसलिए गैजेट्स से थोड़ी दूरी बनाकर रखना बहुत जरूरी है.

रिसर्च बताती है कि यूवीए व यूवीबी किरणों के मुकाबले ब्लू लाइट स्किन के अंदर तक जाकर स्किन को बीमार कर देती है. जिससे स्किन पर रेडनेस, सूजन , डार्क स्पोट्स व स्किन पिग्मेंट हो जाती है. यहां तक कि ये हमारी नींद को भी चुराने का काम करती है. क्योंकि जब हमें रात को सोते हुए अमेज़न प्राइम, नेटफ्लिक्स, जी5 आदि पर मूवीज देखने की लत पड़ जाती है या फिर फोन देखने की तो ये हमारे स्लीप होर्मोन मेलाटोनिन के लेवल को प्रभावित करने का काम करती है. जिससे हम जब पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं , तो हमारे चेहरे की रौनक फीकी पड़नी शुरू हो जाती है. इसलिए समय पर संभलना जरूरी है.