होम > विज्ञान और तकनीक

भारत ने सरकारी कर्मचारियों को वीपीएन,गूगल ड्राइव और ड्रॉपबॉक्स का उपयोग करने से प्रतिबंधित किया

भारत ने सरकारी कर्मचारियों को वीपीएन,गूगल ड्राइव और ड्रॉपबॉक्स का उपयोग करने से प्रतिबंधित किया

भारत सरकार ने अपने कर्मचारियों को तीसरे पक्ष और गैर-सरकारी क्लाउड प्लेटफॉर्म जैसे Google ड्राइव और ड्रॉपबॉक्स और वीपीएन का उपयोग करने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

सरकारी कर्मचारियों को भी वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) सेवाओं का उपयोग करने से प्रतिबंधित कर दिया गया है । हाल ही में, कुछ लोकप्रिय वीपीएन सेवा प्रदाताओं जैसे नॉर्डवीपीएन और एक्सप्रेसवीपीएन ने भारत से नेटवर्क हटाने की घोषणा की । यह कदम देश की नई वीपीएन नीति की घोषणा के बाद आया है । सर्विस प्रोवाइडर्स को सर्ट-इन (कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम) (CERT-In) ने आदेश जारी किया है ।

नयी नीति के अनुसार VPN वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क की सर्विस देने वाली कंपनियों को यूजर का डेटा उनके अकाउंट डिलीट होने के बाद भी सिक्योर रखना होगा । सामान्य रूप से VPN  नो-लॉगिंग पालिसी पर काम करता है, कंपनियां केवल RAM डिस्क सर्वर और दूसरी लोग-लेस टेक्नोलॉजी के साथ ऑपरेट करती हैं इस वजह से डेटा और यूज़ को मॉनिटर नहीं किया जा सकता । ऐसी कंपनियों को अब यूजर नाम IP एड्रेस, यूजर पैटर्न और आइडेंटीफ़्य करने लायक दूसरी जानकारी को स्टोर करना होगा ।

कई मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, यह आदेश राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) द्वारा पारित किया गया है और सभी मंत्रालयों और विभागों को प्रसारित किया गया है । अधिकारियों ने सभी सरकारी कर्मचारियों से निर्देश का पालन करने को कहा है । कहा जाता है कि इस आदेश को इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY) द्वारा अनुमोदित किया गया है ।

सरकार द्वारा नई वीपीएन नीति की घोषणा करने के कुछ ही हफ्तों बाद यह कदम लागू होता है, जिसके लिए वीपीएन सेवा प्रदाताओं और डेटा सेंटर कंपनियों को उपयोगकर्ताओं के डेटा को पांच साल तक स्टोर करने की आवश्यकता होती है ।

गैजेट्स360 की रिपोर्ट के अनुसार, वीपीएन और क्लाउड सेवाओं के अलावा, भारत सरकार ने कर्मचारियों को टीमव्यूअर, एनीडेस्क और एमी एडमिन जैसे "अनधिकृत रिमोट एडमिनिस्ट्रेशन टूल्स" का उपयोग ना करने का भी निर्देश दिया है।

कर्मचारियों को अपने खातों के लिए जटिल पासवर्ड का उपयोग करने के साथ-साथ 45 दिनों में एक बार पासवर्ड अपडेट करने के लिए भी कहा जाता है ।