होम > विज्ञान और तकनीक

हाइपरसोनिक मिसाइल : रूस और चीन से पीछे छूटा अमेरिका

हाइपरसोनिक मिसाइल : रूस और चीन से पीछे छूटा अमेरिका

दुनिया की सबसे आधुनिक हाइपरसोनिक मिसाइल रूस और चीन ने विकसित भी कर ली और अपने जंगी बेड़े में शामिल भी कर ली हैं। इनकी गति ध्वनि की गति से 5 से 9 गुना ज़्यादा तक तेज है। रूस के द्वारा उपयोग में लायी जा रही हाइपरसोनिक मिसाइल का नाम है 3M22 Zircon जो की ध्वनि की गति से 8 से 9 गुना ज़्यादा तेज़ी से उड़ान भर सकती है। इसमें स्क्रैमजेट इंजन का उपयोग होता है जो इसे इतने तेज़ रफ़्तार दे पाता है। वही चीन के पास DF-ZF नाम की हाइपरसोनिक मिसाइल है जो की वर्ष 2019 से ही उसके जंगी बड़े में शामिल है। इसे DF -17 राकेट पर लगाया गया है और इसकी रफ़्तार ध्वनि की रफ़्तार से 5 गुना ज़्यादा तक है। इसकी रफ़्तार को बढ़ा कर ध्वनि की रफ़्तार से 10 गुना ज़्यादा भी किया जा सकता है। लेकिन ये ग्लाइडर है जिसका तकनिकी टाइप हाइपरसोनिक ग्लाइडिंग व्हीकल (HGV) है। मतलब इसे किसी राकेट पर बांध कर खूब तेज़ी से छोड़ा जाता है और ये अपने डिज़ाइन और गुरुत्वाकर्षण से हाइपरसोनिक स्पीड को ग्लाइड करते हुए प्राप्त कर लेता है जो इसे बेहद घातक बनाती है। 
लेकिन हम अक्सर नए नए हथियारों को अमेरिका में बनते हुए या फिर उपयोग करते हुए सुनते हैं।  मगर इस बार बाज़ी मार ली है रूस और चीन ने। इस लिहाज़ से देखा जाये तो हथियारों की होड़ में अमेरिका अब पीछे हो गया है। और इस बात से अमेरिका परेशान भी है। क्यूंकि उसके अपने हाइपरसोनिक मिसाइल अभी तक सफलता पूर्वक सेना में शामिल नहीं हो पाए हैं और अभी भी टेस्टिंग के अंतर्गत हैं। लेकिन अमेरिकी जनता को दिलासा देने के लिए 2020 के चुनाव से पहले वहां के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ये घोषणा की थी की अमेरिका भी जल्द ही अपनी हाइपरसोनिक मिसाइल बना लेगा मगर अभी तक इसमें सफलता नहीं मिल पायी है। 
भारत ने भी अपना हाइपरसोनिक मिसाइल प्रोग्राम कई वर्ष पूर्व शुरू कर दिया था और ब्रम्होस-II और HGV -202F नाम की मिसाइल को बनाने में अपने कदम आगे भी बढ़ा रहा है। अबसे पहले आएगी ब्रम्होस-II ये ध्वनि की रफ़्तार से 5 से 7 गुना अधिक तेज़ी से उड़ पाएगी और ये भी स्क्रैम जेट इंजन के उपयोग करने वाली मिसाइल होगी। इस मिसाइल को भारत और रूस दोनों मिलकर विकसित कर रहे हैं। वैसे भारत के पास ब्रम्होस नाम की सुपर सोनिक क्रूज मिसाइल पहले से ही मौजूद है जो दुनिया में सबसे तेज़ क्रूज मिसाइल है। वही HGV -202F नाम की मिसाइल एक ग्लाइडर होगी जो की अग्नि पांच जैसे मिसाइल सिस्टम के द्वारा प्रक्षेपित की जाएगी , इसकी रफ़्तार ध्वनि से 10 से 20 गुना तक अधिक रहेगी। भारत HSTDV यानि हाइपर सोनिक टेक्नॉलजी डेमोन्सटरटर व्हीकल का सफल प्रक्षेपण और टेस्टिंग कर चूका है जिसे ये स्थापित होता है की भारत भी हाइपरसोनिक मिसाइल बना सकता है। HSTDV का प्रक्षेपण वर्ष 2019 में किया गया था।
HT