होम > सेहत और स्वास्थ्य

कई बीमारियों का घर है स्मार्टफोन, जानें कैसे ये बना रहा आपको बीमार

कई बीमारियों का घर है स्मार्टफोन, जानें कैसे ये बना रहा आपको बीमार

स्मार्टफोन का अधिक इस्तेमाल होने के कारण इसका असर हमारी सेहत पर भी पड़ने लगा है। शारीरिक और मानसिक कई समस्याएं होती है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो स्मार्टफोन के जरिए अत्यधिक सूचनाएं मिल जाती है। मगर इन सूचनाओं के कारण तनाव और अवसाद होने लगता है। ऐसे में ये बहुत जरूरी है कि इन परेशानियों से बचते हुए मोबाइल से समय समय पर दूरी बनाई जाए।


आंखों को पहुंचाता है नुकसान

मोबाइल के लगातार इस्तेमाल से इससे निकलने वाली रोशनी आंखों को नुकसान पहुंचाती है। स्मार्टफोन की स्क्रीन के कारण आंख में मौजूद फोटोरिसेप्टर को नुकसान होता है। आंखों में कई तरह की तकलीफ होती है। आंखों में दर्द, सिर में दर्द, धुंधला दिखाई देना और आंखों में सूखापन इसके सामान्य लक्षण है। ऐसे में स्मार्टफोन से कुछ दिनों का ब्रेक अवश्य लें।


हाथ में हो सकती है परेशानी

रोजाना पांच से छह घंटे तक मोबाइल पर व्यतीत करने वालों को हाथों में काफी परेशानी होने लगती है। जानकारी के मुताबिक अधिक समय तक मोबाइल फोन पर व्यतीत करने से कार्पेल टनेल और सेल्फी रिस्ट की परेशानी हो सकती है। बता दें कि कार्पेल टनेल हाथों में होने वाली एक समस्या है। अधिक समय तक स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने से हाथ और कलाई की नसों में कमजोरी आती है जो हाथ दर्द का कारण बनता है। कोहनी में दर्द होने के अलावा उंगलियां भी टेढ़ी होने लगती है। ऐसे में कई गंभीर मामलों में सर्जरी कराने की आवश्यकता होती है।


उम्र पर पड़ता है प्रभाव

स्मार्टफोन के इस्तेमाल के दौरान सिर, गाल, नाक, आंख आदि पर हाथ लगता है। कई रिसर्च में सामने आया है कि फोन में हजारों तरह के जर्म्स होते है। स्मार्टफोन के ये जर्म्स चेहरे पर दाग, धब्बे, कील-मुहांसों को जन्म देते है। इसके अलावा त्वचा समय से पहले बूढ़ी दिखने लगती है।


स्लीपिंग पैटर्न होता है खराब

फोन के अधिक इस्तेमाल से स्लीपिंग पैटर्न पूरी तरह से खराब हो जाता है। इससे हमारी बॉडी क्लॉक भी खराब हो जाती है। मगर स्मार्टफोन के इस्तेमाल से लोग देर रात तक जागते हैं। वहीं आंखों पर देर रात तक स्मार्टफोन की लाइट पड़ने से आंखों की पुतली सक्रिय हो जाती है जिससे नींद नहीं आने की समस्या होती है। ऐसे में रात को सोने से पहले स्मार्टफोन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।


अधिक तनाव का कारण

कई रिसर्च में सामने आया है कि अधिक तनाव लेने का मुख्य कारण फोन भी है। दरअसल इंटरनेट पर अत्यधिक सर्फिंग करने के कारण कई बार सही और गलत दोनों ही तरह की जानकारियां हम लेते हैं जिससे मानसिक तनाव बढ़ता है। ये दिल पर भी असर होता है। लंबे समय तक इससे घिरे रहने से तनाव और अवसाद की स्थिति उत्पन्न हो जाती है।


ये भी पढ़ें -

डिप्रेशन से लेकर ब्लड शुगर, कई बीमारियों में फायदेमंद है “वॉकिंग मेडिटेशन”

0Comments