होम > खेल

भारत के पूर्व तेज गेंदबाज आरपी सिंह के बेटे हैरी इस देश की तरफ से खेलेंगे अंडर-19 टीम में

भारत के पूर्व तेज गेंदबाज आरपी सिंह के बेटे हैरी इस देश की तरफ से खेलेंगे अंडर-19 टीम में

भारत के पूर्व तेज गेंदबाज रुद्र प्रताप सिंह के बेटे हैरी सिंह  ने श्रीलंका के खिलाफ आगामी घरेलू सीरीज के लिए इंग्लैंड की अंडर-19 टीम में जगह बनाई है।

लखनऊ के रहने वाले तेज गेंदबाज आरपी सिंह 1990 के दशक के अंत में इंग्लैंड चले गए थे। उधर जाकर उन्होंने लंकाशायर काउंटी क्लब और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के साथ कोचिंग का काम संभाला। उनके बेटे हैरी लंकाशायर 2nd XI के लिए ओपनिंग बल्लेबाज हैं।

आरपी सिंह ने बताया कुछ दिनों पहले हमें ईसीबी से फोन आया था कि हैरी को इंग्लैंड की अंडर-19 टीम के लिए चुना गया है,जो श्रीलंका की अंडर-19 टीम के खिलाफ आगामी घरेलू सीरीज  खेलेगी।

आरपी सिंह ने कहा कि हमको पता है कि शीर्ष स्तर तक पहुंचने के लिए मेरे बेटे को किन चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। शीर्ष स्तर पर इसे बनाने के लिए आपको थोड़े से भाग्य और बहुत सारे रनों की आवश्यकता होती है। मैंने 90 के दशक में कई क्रिकेटरों को देखा है जो घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करते थे लेकिन जब वे भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व करते थे तो वे काफी असफल रहे। जैसे-जैसे हैरी बड़ा होगा, उसे वह तकनीकी समायोजन करना होगा जो हर क्रिकेटर करता है।

उन्होंने कहा वह तेज गेंदबाजी करता है  लेकिन मुझे पता है कि तेज गेंदबाजी और ओपनिंग बल्लेबाजी को काफी नुकसान हो सकता है। इसलिए मैंने उसे बल्लेबाजी जारी रखने का फैसला किया और अब वह ऑफ स्पिन गेंदबाजी भी करता है। यह अभी भी एक लंबी यात्रा है लेकिन उसने जीत हासिल की है। ये उनके करियर में एक छोटा कदम है ।

हैरी मुंबई में दिलीप वेंगसरकर अकादमी में प्रशिक्षण के लिए तैयार है, जहां वह भारत के पूर्व कप्तान के मार्गदर्शन में प्रशिक्षण लेगे ।

आरपी सिंह का कहना है कि उन्हें एक ऐसा ऑलराउंड क्रिकेटर बनाने का है जो हर तरह की सतहों पर खेल सके। सिंह कहते हैं उसे बल्लेबाजी के गुर सीखने होंगे और वह ऐसा तभी कर सकता है जब वह भारत आ जाए।

उन्होंने अपने दिनों को याद करते हुये कहा कि समय अब बदल गया है। ये लड़के भाग्यशाली हैं कि अब क्रिकेट में बहुत कुछ बदल गया है। हमारे दिनों में हमारे पास बहुत सीमित सुविधाएं थीं और हमें खुद से सीखने की जरूरत थी। हम अपने गुरु थे और इसने हमें भीतर से मजबूत बनाया। भारतीय क्रिकेटर इंग्लैंड की गर्मियों में  काउंटी खेलने के लिए इंग्लैंड आते थे। अब हमारी गर्मियों में पूरी दुनिया भारत की यात्रा करती है।