होम > खेल

जानिये ये खिलाड़ी क्यों महत्वपूर्ण हो गया है टीम इंडिया के लिये - मेधज न्यूज़

जानिये ये खिलाड़ी क्यों महत्वपूर्ण हो गया है टीम इंडिया के लिये - मेधज न्यूज़

अर्शदीप सिंह ने अपनी सफलता के पीछे का मंत्र बताया

अर्शदीप सिंह टी20 अंतरराष्ट्रीय में बहुत कम समय में टीम इंडिया के अहम खिलाड़ी बन गए हैं और बायें हाथ का यह युवा तेज गेंदबाज अपनी सफलता का श्रेय भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी जैसे सीनियर गेंदबाजों को देने में संकोच नहीं करता। 

यह 23 वर्षीय खिलाड़ी भारत के टी20 विश्व कप अभियान के सकारात्मक पहलुओं में से एक था जो सेमीफाइनल में चैम्पियन इंग्लैंड से हार के साथ समाप्त हुआ था। अर्शदीप ने गेंद को दोनों तरफ से स्विंग कराने की अपनी क्षमता के साथ टीम के विकेट लेने वाले गेंदबाज के रूप में अपना योगदान दिया , जिन्होंने 7.80 की इकॉनमी रेट से छह मैचों में 10 विकेट लिए। 

अर्शदीप ने bcci.tv पर मोहम्मद सिराज के साथ बातचीत में कहा, 'मैं हमेशा टीम के सीनियर गेंदबाजों से सीखने की कोशिश करता हूं, ठीक वैसे ही जैसे मैं आपसे हार्ड लेंथ सीख रहा हूं और भुवी भाई (भुवनेश्वर कुमार) से पोर बॉल और मोहम्मद शमी भाई से यॉर्कर सीख रहा हूं। मैं हमेशा हर दिन खुद को बेहतर बनाने की कोशिश करता हूं और जब भी जरूरत होती है टीम के लिए योगदान देता हूं और उम्मीद करता हूं कि मैं अच्छा प्रदर्शन करूंगा। अर्शदीप (37 रन देकर चार विकेट) ने न्यूजीलैंड के खिलाफ बारिश से प्रभावित तीसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में मंगलवार को अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

वह 19वें ओवर की पहली दो गेंदों में डेरिल मिथसेल और ईश सोढ़ी को आउट करके न्यूजीलैंड की पारी की समाप्ति पर हैट्रिक लेने की कगार पर थे, लेकिन अंत में यह उपलब्धि हासिल करने में नाकाम रहे। मैंने यह भी सोचा था कि मैं हैट्रिक ले सकता हूं या पांच विकेट ले सकता हूं। लेकिन आपने रन आउट किया और टीम को हैट्रिक दी। सीनियर्स ने मुझे विरोधी को छकाने के लिए लेंथ और धीमी गेंद फेंकने की सलाह दी।  

मंगलवार को मैच में 17 रन देकर चार विकेट चटकाकर भारत की राह में लय बदलने वाले सिराज ने कहा कि कड़ी लेंथ से गेंदबाजी करने की उनकी योजना का उन्हें काफी फायदा मिला।

देश के लिए इस तरह का प्रदर्शन करके बहुत अच्छा लग रहा है। मैं लंबे समय से हार्ड लेंथ से गेंदबाजी करने के लिए खुद को तैयार कर रहा था। यहां हार्ड लेंथ से गेंदबाजी करना आसान नहीं था। सिराज ने कहा, 'मेरी सरल योजना कड़ी लेंथ से खेलने की थी।

भारत का प्रतिनिधित्व करना पूरी तरह से एक अलग एहसास है। टी20 में मेरा लक्ष्य विकेट हासिल करना होता है लेकिन मैं हमेशा कम रन देने की कोशिश करता हूं।