होम > खेल

BCCI पर सिलेक्शन कमेटी ने लगाए आरोप

BCCI पर सिलेक्शन कमेटी ने लगाए आरोप

बर्खास्त की गई सिलेक्शन कमेटी ने  BCCI पर आरोप लगाया है कि BCCI ने  टी-20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के खराब प्रदर्शन के लिए सिलेक्शन कमेटी को बलि का बकरा बनाया है। बर्खास्त की गई सिलेक्शन कमेटी ने कहा कि विराट को कप्तानी से हटाने से लेकर टीम में किन खिलाड़ियों को जगह देनी है या नहीं देनी है, उन सब फैसलों में BCCI के टॉप अधिकारियों और टीम मैनेजमेंट की सलाह को माना गया है।

सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ 10 विकेट से हारने के बाद टीम की आलोचना हो रही थी। जिसके बाद  BCCI  ने सिलेक्शन कमेटी को बर्खास्त कर दिया था, और नई कमेटी के लिए एप्लीकेशन्स मंगाईं थीं।  इसी को लेकर सिलेक्शन कमेटी के एक सदस्य ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि - भारतीय टीम को लेकर लिए गए सभी बड़े फैसले BCCI के टॉप अधिकारियों की सहमति के बाद ही लिए जाते हैं। BCCI के अधिकारियों के सुझाव पर ही टीम में रोटेशन नीति के तहत खिलाड़ियों को आराम और नए खिलाड़ियों को मौका दिया जाता है। अब ये कहा जा रहा है कि 9 महीने में 8 कप्तान बनाए, तो ये फैसले भी अपने मन से नहीं लिए। BCCI के टॉप अधिकारियों की ओर से ही निर्देश दिया गया कि किस दौरे पर कौन कप्तान होगा। उसके बाद जब सारे एक्सपेरिमेंट्स फेल हो गए हैं तो उसका दोष सिलेक्शन कमेटी पर मढ़ दिया गया।

आगे बात करते हुए कहा कि अधिकारियों के सुझाव पर ही बुमराह के चोटिल होने के बाद एक साल से इंटरनेशल टी-20 से दूर रहे और एशिया कप में बाहर बैठे मोहम्मद शमी को टी-20 वर्ल्ड कप की टीम में शामिल किया गया। टीम मैनेजमेंट की मांग पर ही नए खिलाड़ियों को टीम में मौका दिया और मैनेजमेंट के  सुझाव पर ही वर्ल्ड कप के लिए 15 खिलाड़ियों की टीम और रिजर्व खिलाड़ियों को शामिल किया। अगर इसके लिए हम ही नहीं मैनेजमेंट के अधिकारी और खिलाड़ी भी खराब प्रदर्शन के लिए दोषी हैं और उन पर भी कार्रवाई होना चाहिए।