होम > खेल

BCCI के इस नये नियम को लागू करने से और अधिक दिलचस्प,आकर्षक हो जायेगा टी20 क्रिकेट मैच

BCCI के इस नये नियम को लागू करने से और अधिक दिलचस्प,आकर्षक हो जायेगा टी20 क्रिकेट मैच

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने टी20 क्रिकेट मैच में ‘इम्पैक्ट प्लेयर’ नियम को लागू करने का निर्णय लिया है। यह नया नियम सबसे पहले सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में लागू होगा, इस नियम से बीच मैच में प्लेइंग XI बदलने की मिलेगी अनुमति । 


(BCCI) भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड टी20 क्रिकेट मैच को और अधिक दिलचस्प, आकर्षक और गतिशील रूप प्रदान करने के लिए ‘इम्पैक्ट प्लेयर’ नियम लागू करने जा रहा है। बीसीसीआई ने इस नियम को सबसे पहले सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में लागू करने का निर्णय लिया है, जैसे बास्केटबॉल, रग्बी, बेसबॉल और फुटबॉल जैसे खेलों में इस नियम की मदद से बीच मैच में खिलाड़ी बदले जाते है अब ऐसा इस नियम की मदद से टी20 क्रिकेट मैच मै भी संभव हो सकेगा। बीसीसीआई का यह ट्रायल अगर सफल रहता है तो आने वाले समय में हम आईपीएल जैसे बड़े टूर्नामेंट में भी इसका इस्तेमाल होते हुए देख सकते हैं।

बीसीसीआई के दस्तावेज में लिखा है, 'क्रिकबज की खबर के अनुसार', कॉन्सेप्ट यह है कि भारत में एक सब्सटिट्यूट खिलाड़ी को मैच में खेलने की अनुमति देना। यह क्रिकेट खेल में नया रणनीतिक आयाम जोड़ देगा। बास्केटबॉल ,रग्बी, बेसबॉल और फुटबॉल जैसे कई खेलों में इस नियम की अनुमती पहले से है। सब्सटिट्यूट खिलाड़ी को भी बाकी सभी नियमित खिलाड़ियों की तरह ही प्रदर्शन करने की अनुमति होती है। 

क्या होता है  'इम्पैक्ट प्लेयर’ नियम'

मैच में टॉस होने के दौरान दोनों कप्तान को प्लेइंग इलेवन के खिलाड़ियों के साथ चार और खिलाड़ियों के नाम बताने होंगे जिन्हें वह मैच के दौरान इस्तेमाल करना चाहता हो। इन चार खिलाड़ियों में टीम किसी भी एक खिलाड़ी को बतौर सब्सटिट्यूट मौका दे सकती है। टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए अगर जल्दी अपने विकेट खो देती है तो ‘इम्पैक्ट प्लेयर’ नियम की मदद से वह एक गेंदबाज की जगह किसी अतिरिक्त बल्लेबाज को सब्सटिट्यूट खिलाड़ी के रूप मैं प्लेइंग इलेवन खिला सकती है। वहीं अगर टीम पहले बैटिंग करते हुए ज्यादा विकेट नहीं खोती है तो वह अपनी दूसरी पारी में टीम एक बल्लेबाज की जगह सब्सटिट्यूट खिलाड़ी के रूप मैं एक गेंदबाज को टीम में शामिल कर सकती है। सब्सटिट्यूट खिलाड़ी के आने के बाद मैदान छोड़ने वाला खिलाड़ी मैच में दोबार हिस्सा नहीं ले पाएगा।


सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी का आगाज 11 अक्टूबर से शुरू होने जा रहा है।