होम > खेल

भारत बर्मिघम राष्ट्रमंडल खेलों में हॉकी टीमों को मैदान में उतारेगा

भारत बर्मिघम राष्ट्रमंडल खेलों में हॉकी टीमों को मैदान में उतारेगा



मुंबई | हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ज्ञानंद्रो निंगोमबम द्वारा कुछ महीने पहले घोषित किए गए फैसले को पलटते हुए भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीएफ) के साथ एक समझौता किया है, जिसमें भारत की पुरुष और महिला हॉकी टीमों को वादा किया गया है कि अगले साल बर्मिघम में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स में वह हिस्सा लेंगी। हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ने कुछ महीने पहले राष्ट्रमंडल खेल महासंघ के अध्यक्ष को सूचित किया था कि भारतीय पुरुष और महिला टीमें 2022 बर्मिघम खेलों में कोविड-19 संबंधित चिंताओं और "भेदभावपूर्ण और पक्षपाती" क्वारंटीन नियमों का हवाला देते हुए भाग नहीं लेंगी।


उन्होंने चीन के हांग्जो में एशियाई खेलों के लिए राष्ट्रमंडल खेलों की तारीखों की निकटता को बमिर्ंघम 2022 से टीमों को बाहर निकालने का कारण बताया।


राष्ट्रमंडल खेलों 2022, जो 8 अगस्त को समाप्त हो रहा है और 10 सितंबर से शुरू हो रहे एशियाई खेलों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए, हॉकी टीमों के पास आयोजन की तैयारी के लिए पर्याप्त समय नहीं होगा। इस प्रकार, बमिर्ंघम से टीमों को वापस लेने का फैसला किया और इसके बजाय हांग्जो में एशियाई खेलों पर ध्यान केंद्रित किया, क्योंकि पेरिस में 2024 ओलंपिक खेलों के लिए क्वालीफाइंग इवेंट आयोजित होगा। लेकिन, अब राष्ट्रमंडल खेल महासंघ के अध्यक्ष डेम लुईस मार्टिन ने पुष्टि की है कि भारतीय हॉकी टीमें बमिर्ंघम में खेलों में भाग लेंगी।


केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने सरकार से सलाह नहीं लेने के लिए हॉकी इंडिया की आलोचना की थी, जब शुरू में राष्ट्रमंडल खेलों में हॉकी टीमों को मैदान में नहीं उतारने का फैसला किया गया था तब रिपोर्ट्स में कहा गया था कि केंद्रीय खेल मंत्री आईओए प्रमुख और सीजीएफ अध्यक्ष के बीच बातचीत में भी शामिल थे।


डेम लुईस ने कहा "हॉकी राष्ट्रमंडल खेलों में एक विश्व स्तरीय प्रतियोगिता है, और यह एक अच्छी प्रतियोगिता होगी।" राष्ट्रमंडल खेलों के लिए प्रतिभागियों की अंतिम सूची फरवरी में घोषित की जाएगी।