होम > भारत

निपाह वायरस को लेकर तमिलनाडु में बरती जा रही सतर्कता, केरल के यात्रियों की हो रही निगरानी

निपाह वायरस को लेकर तमिलनाडु में बरती जा रही सतर्कता, केरल के यात्रियों की हो रही निगरानी

चेन्नई| केरल में निपाह के बढ़ते मामलों के बीच अब तमिलनाडु के स्वास्थ्य विभाग ने कमर कस ली है। दरअसल केरल के कोझीकोड़ में निपाह वायरस से 12 वर्षीय लड़के की मौत के बाद तमिलनाडु के स्वास्थ्य विभाग ने केरल से राज्य पहुंचने वाले लोगों की कड़ी निगरानी शुरू कर दी है। 


राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने सभी चेक पोस्टों पर कड़ी निगरानी सुनिश्चित करने के लिए केरल की सीमा से लगे जिलों के जिला कलेक्टरों और जिला स्वास्थ्य अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए है। राज्य ने सीमाओं पर पूर्ण चिकित्सा टीमों का भी गठन किया है।


कन्याकुमारी, थेनी, तेनकासी, नीलगिरी, कोयंबटूर और तिरुपुर के जिला स्वास्थ्य अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है कि केरल की सीमा से लगे सभी सड़कों पर स्क्रीनिंग टीमों को तैनात किया जाए।


उन्हें निर्देश दिया गया है कि बुखार के लक्षण दिखाने वालों के रक्त के नमूने, गले की सूजन, मूत्र और मस्तिष्कमेरु द्रव (सीएसएफ) के नमूने एकत्र करें। केरल से राज्य में प्रवेश करने वाले सभी यात्रियों को बुखार जांच के अधीन किया जाए और सीमाओं पर चिकित्सा सुविधाओं में बुखार निगरानी क्लीनिक स्थापित किए जाएं।


कोयंबटूर में एक निजी कंपनी के कर्मचारी राजन वारियर ने आईएएनएस को बताया कि वालयार सीमा पर उनका बुखार परीक्षण किया गया। उन्होंने कहा कि वालयार सीमा पर एक पूर्ण चिकित्सा दल मौजूद है और मुझे बुखार की निगरानी के अधीन किया गया था।


जो लोग निपाह या संबद्ध लक्षणों के मामूली लक्षण दिखाते हैं, उनके गले की जांच, मूत्र जांच, रक्त नमूना और सीएसएफ जांच की जाती है। मैं एक निजी कंपनी का कर्मचारी हूं और सप्ताह में एक बार, मैं अपने दोपहिया वाहन से पलक्कड़ जाता हूं और शनिवार और रविवार की दो दिन की छुट्टियों के बाद लौटता हूं।


कोयंबटूर के जिला कलेक्टर जी.एस.समीरन वालयार चेक पोस्ट पर बुखार की निगरानी कर रहे हैं।