होम > यू.पी.एस.सी

यूपीएससी टिप्स : एनसीईआरटी की किताबों से होंगे बेसिक क्लीयर

यूपीएससी टिप्स : एनसीईआरटी की किताबों से होंगे बेसिक क्लीयर

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में सफलता पाने के लिए कई लोग अपनी लाखों की नौकरी छोड़ने से भी नहीं कतराते है। इसके बाद शुरु होता है सालों का संघर्ष, जिसके बाद ही यूपीएससी में सफलता मिलने की संभावना बनती है।


कई बार असफलता मिलने, और फिर से तैयारी में जुटने का संघर्ष करने वाली कहानी है वर्ष 2020 में ऑल इंडिया रैंक पाने वाली अंकिता जैन की। उन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल कर नौकरी की। मगर सिविल सेवा में जाने का सपना देखने वाली अंकिता ने नौकरी छोड़ तैयारी शुरु की।


हालांकि उन्हें सफलता पाने से पहले तीन बार असफलता से गुजरना पड़ा। चौथे प्रयास में वो आईएएस अफसर बनने का सपना पूरा कर पाई। 


शुरुआत में आई मुश्किलें


दिल्ली से ताल्लुक रखने वाली अंकिता ने बचपन में ही सिविल सेवा में जाने का मन बनाया था। पढ़ाई में भी वो काफी होशियार थी। उन्होंने इंटरमीडिएट के बाद दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की डिग्री ली। बीटेक करने के बाद अच्छा पैकेज भी मिला। मगर उन्होंने कुछ समय तक नौकरी करने के बाद उसे छोड़ा और यूपीएससी की तैयारी करना शुरु किया। अंतिका के पति आईपीएस अफसर है। उनके परिवार के कई लोग सिविल सेवा में है। ऐसे में उन्हें तैयारी करने के लिए अच्छा माहौल मिला।


चार साल का रहा संघर्ष


अंकिता ने यूपीएससी की तैयारी 2017 में शुरु की थी। पहला प्रयास किया तो असफलता हाथ लगी। मगर दूसरे प्रयास में वो परीक्षा पास करने में सफल रहीं। मगर रैंक अच्छी नहीं मिली और वो आईएएस सेवा में नहीं आ सकी। उन्होंने इंडियन अकाउंट सर्विस ज्वाइन की। सर्विस के साथ वो यूपीएससी की तैयारी करती रहीं। तीसरे प्रयास में भी वो सफल नहीं हुई। मगर चौथे प्रयास में उन्होंने अपने बचपन के सपने को पूरा किया।


ये है सलाह


दो कहती हैं कि यूपीएससी की तैयारी के लिए कैंडिडेट्स को एनसीईआरटी की किताबें पढ़नी चाहिए। इससे बेसिक क्लीयर करने में मदद मिलती है। एक बार बेसिक क्लीयर होने के बाद ही स्टैंडर्ड किताबों का रुख करें। पढ़ाई के साथ ही अपने नोट्स तैयार करते रहें। पढ़ाई पूरी होने के बाद नोट्स को रिवाइज करें। मेंस की परीक्षा के लिए प्रैक्टिस बहुत जरुरी है। ऐसे में साथ ही साथ प्रैक्टिस भी करते रहें।

यूपीएससी एनडीए 2 परीक्षा आज, महिलाएं भी होंगी हिस्सा

सही दिशा में कड़ी मेहनत और बैलेंस से मिलती है यूपीएससी में सफलता