होम > दुनिया

अनवर ने सुधार के लिए 25 साल के संघर्ष के बाद मलेशिया के पीएम के रूप में शपथ ली

अनवर ने सुधार के लिए 25 साल के संघर्ष के बाद मलेशिया के पीएम के रूप में शपथ ली

गुरुवार दोपहर 5 बजे (09:00 GMT) के बाद कुआलालंपुर में मलेशिया के शाह  सुल्तान अब्दुल्ला सुल्तान अहमद शाह के सामने 75 वर्षीय अनुभवी राजनेता अनवर इब्राहिम ने देश के 10 वें प्रधान मंत्री के रूप में शपथ ली। 1990 के दशक में वे इस पद के प्रबल दावेदार थे  पर उन्हें अचानक बर्खास्त कर दिया गया और जेल भेज दिया गया था पर उन्होंने अविश्वसनीय वापसी की है।

सप्ताहांत के चुनाव में अनवर के पकाटन हरपन (पीएच) गठबंधन ने सबसे अधिक सीटों पर विजय प्राप्त की लेकिन उनके पास  सरकार बनाने के लिए आवश्यक 112 सीटों वाला संसदीय बहुमत नहीं था अतः  शाह  सुल्तान अब्दुल्ला ने एक नई सरकार बनाने की प्रक्रिया को अपने  नियंत्रण में कर लिया था 

PH और प्रतिद्वंद्वी रूढ़िवादी मलय-मुस्लिम पेरिकटन नैशनल (PN) गठबंधन ने पूर्व प्रधान मंत्री मुहीदीन यासिन के नेतृत्व में, जिसके पास दूसरी सबसे ज़्यादा  सीटें थींसबा और सरवाक के बोर्नियो राज्यों में छोटे गठबंधन और 2018 में पिछले चुनावों में अपनी ऐतिहासिक हार से पहले लगभग 60 वर्षों तक मलेशिया पर हावी रहे बारिसन नैशनल (बीएन) को लुभाते हुए  सरकार बनाने के लिए बातचीत शुरू की पर उन्हें कोई सफलता मिली इसके उपरान्त  शाह  ने अनवर और मुहीदीन के साथ-साथ संसद के नवनिर्वाचित सदस्यों से मुलाकात की, ताकि वे नई सरकार का नेतृत्व कर सकें

गुरुवार को शाही परिवारों की एक बैठक के बाद, अनवर को नेता के रूप में घोषित किया गया क्योंकि शाह  आश्वस्त थे  कि उसे मलेशिया के संसद के 222 सदस्यों के बहुमत का समर्थन प्राप्त था।

शाह  सुल्तान अब्दुल्ला ने बयान में कहा, "कोई पूर्ण विजेता और कोई पूर्ण हारने वाला नहीं है", सभी राजनेताओं से देश के लाभ के लिए मिलकर काम करने का आग्रह किया।

अपने शपथ ग्रहण  के बाद, अनवर ने कहा कि वह उन्हें सौंपे गए कर्तव्यों को "अत्यंत विनम्रता" के साथ निभाएंगे।

उन्होंने एक ट्विटर पोस्ट में कहा - मैं अपनी टीम के साथ लोगों की आकांक्षाओं पर आधारित इस भारी जिम्मेदारी को निभाऊंगा।