होम > दुनिया

उग्र तालिबान ने संयुक्त राष्ट्र में अफगानिस्तान के बयान पर शरीफ से माफी की मांग की

उग्र तालिबान ने संयुक्त राष्ट्र में अफगानिस्तान के बयान पर शरीफ से माफी की मांग की

काबुल में तालिबान शासन ने संयुक्त राष्ट्र में अपने बयान के लिए पाकिस्तान के प्रधान मंत्री शहबाज शरीफ से बिना शर्त माफी की मांग की है। अपने बयान में शहबाज शरीफ ने कहा था  कि अफगानिस्तान आतंकवादियों के लिए एक सुरक्षित पनाहगाह है।

तालिबान के एक शीर्ष सूत्र ने बताया कि तालिबान शासन ने  कहा, 'हम पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ के बयान को खारिज करते हैं। उनका यह बयान अनुचित और निंदनीय है। पाकिस्तान को बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए, ”।

तालिबान नेता ने कहा, “हमारे निजी दोस्त शहबाज शरीफ ने संयुक्त राष्ट्र में पूरी दुनिया को बताया कि अफगानिस्तान आतंकवादियों के लिए एक सुरक्षित पनाहगाह है और  अफगानिस्तान दुनिया के लिए एक बड़ा खतरा है। यह और कुछ नहीं बल्कि हमारा अपमान है। ”

शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा में  शरीफ का भाषण  पिछले साल के उस सम्बोधन का बिलकुल उलट है जब उस समय के पाकिस्तानी तत्कालीन प्रधान मंत्री इमरान खान ने अफगानिस्तान में तत्कालीन तालिबान शासन के बारे में आशावाद व्यक्त किया था और महासभा को नई सरकार को अलग नहीं करने का आह्वान किया था। एक साल बाद, संयुक्त राष्ट्र के किसी भी सदस्य देश ने तालिबान सरकार को मान्यता नहीं दी है।

शरीफ का बयान और उस पर तालिबान की आपत्ति अफगानिस्तान और उसके पड़ोसी के बीच ऐसे समय में तनाव बढ़ा सकती है जब अफगान तालिबान पाकिस्तान और एक पाकिस्तानी तालिबान आतंकवादी समूह के बीच बातचीत में मध्यस्थता कर रहा है।