होम > भारत

क्या है 'No Money for Terror' सम्मेलन, जिसका उद्घाटन प्रधानमंत्री ने नई दिल्ली में किया

क्या है 'No Money for Terror' सम्मेलन, जिसका उद्घाटन प्रधानमंत्री ने नई दिल्ली में किया

नई दिल्ली में आतंकवाद के वित्तपोषण को रोकने के लिये 'No money for terror' सम्मलेन का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया, राजधानी के ताज पैलेस में हो रहे इस सम्मलेन में 72 देशों के लगभग 450 प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं तथा यह सम्मलेन 18 से 19 नवम्बर तक चलेगा जिसमें 4 सेशन हो रहे हैं।

इस कॉन्फ्रेंस का मुख्य उद्देश्य आतंकवाद के लिए प्रयोग होने वाले धन पर लगाम लगाना तथा आतंक के खिलाफ वित्त की जाँच के लिए सदस्य देशों के बीच आपसी सहयोग करना है, टेरर फंडिंग में क्रिप्टो करेंसी के प्रयोग तथा डार्कवेब के माध्यम से हो रही फंडिंग पर निगरानी रखना, सोशल मिडिया के माध्यम से एकत्र होने वाले धन पर नजर रखना, विदेश में देश विरोधी संगठनों तथा प्रोपेगेंडा फैलाने वाले संगठनों पर नियंत्रण रखना आदि इसके मुख्य एजेंडे में रहेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'No money for terror' के उद्घाटन सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि आतंकवाद मानवता, स्वतंत्रता और सभ्यता पर हमला है, इसे केवल जीरो टॉलरेंस के दृश्टिकोंण से ही हराया जा सकता है, उन्होंने कहा हम तब तक चैन से नहीं बैठेगें जब तक आतंकवाद का खात्मा नहीं हो जाता, आतंकवाद का असर गरीबों तथा अर्थव्यवस्था पर भी पड़ता है चाहे वह पर्यटन हो या व्यापर कोई भी हो, उस इलाके को कोई भी पसंद नहीं करता जहाँ पर आतंकवाद का खतरा बना रहता है यह सबसे ज्यादा जरुरी है कि हम आतंकवाद के फंडिंग की जड़ पर प्रहार करें।

उन्होंने कहा हमारे देश ने आतंकवाद का सामना इसे दुनिया के गंभीरता से लेने से पहले किया है, आतंकवाद दशकों से भारत को चोट पहुँचाने की कोशिश कर रहा है जिसकी वजह से हमने हजारों जाने गंवाईं लेकिन हमने इसका बहादुरी से मुकाबला किया, पीएम ने आगे कहा कुछ देश अपनी विदेश निति में आतंकवाद का समर्थन करते हैं राजनीतिक, वैचारिक तथा वित्तीय सहायता प्रदान करते हैं, इंटरनेशनल संगठनों को यह सोंचना चाहिए कि युद्ध की अनुपस्थिति का अर्थ शांति नहीं है।