होम > दुनिया

अफगानिस्तान ने खोये अपने 60 पीसी पत्रकार

अफगानिस्तान ने खोये अपने 60 पीसी पत्रकार

आरएसएफ ने बताया की, तालिबान के 15 अगस्त 2021 को सत्ता संभालने के बाद से अफगानिस्तान ने अपने मीडिया आउटलेट्स के 39.59 पीसी और अपने पत्रकारों के 59.86 पीसी को खो दिए है। आपको बता दे की यह खबर एक रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स (आरएसएफ) सर्वेक्षण के अनुसार पर दी गयी है। सर्वेक्षण में सामने आया है की विशेष रूप से महिला पत्रकार, जिनमें से तीन चौथाई अब बेरोजगार हो गयी हैं। और अब 11 प्रांतों में मौजूद नहीं हैं। यह सब गहरे आर्थिक संकट और प्रेस की स्वतंत्रता पर कार्रवाई के बीच हुआ है।

रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स जो की एक अंतरराष्ट्रीय गैर-लाभकारी और गैर-सरकारी संगठन है उन्होंने अफगानिस्तान में पत्रकारों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए अपनी रिपोर्ट में कहा कि तालिबान के बाद से देश ने अपने मीडिया आउटलेट्स के 39.59% और अपने लगभग 60% पत्रकारों को खो दिया है। आपको बता दे की रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स का उद्देश्य सूचना की स्वतंत्रता के अधिकार की रक्षा करना है।

यह जो परिस्थिति उत्पन हुई है उसकी वजह से पत्रकार अब मीडिया उद्योग में अपने भविष्य को लेकर चिंतित और अस्पष्ट हैं। इन्ही में से एक मीना हबीब है जिन्होंने कहा की "मैंने अपने जीवन के नौ साल मीडिया में काम किया है और मुझे दूसरा करियर सीखने का समय नहीं मिला।" वही दूसरी तरफ पत्रकार समीउल्लाह तनिज़ को भी चिंता सता रही है।

तालिबान शासन की आशंकाओं के बीच अमेरिकी सैनिकों द्वारा अफगान धरती छोड़ने के बाद, हजारों पत्रकार देश छोड़कर भाग गए। मीडिया पोर्टल के अनुसार, उनमें से कुछ वर्तमान में पाकिस्तान और अन्य देशों में रह रहे हैं, जिनकी भविष्य की कोई स्पष्ट योजना नहीं है।