होम > दुनिया

यूएनएचसीआर : वैश्विक शरणार्थी पुनर्वास आवश्यकता में अगले साल वृद्धि का आकलन

यूएनएचसीआर : वैश्विक शरणार्थी पुनर्वास आवश्यकता में अगले साल वृद्धि का आकलन

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी, यूएनएचसीआर ने मंगलवार को वर्ष २०२३ के लिए वैश्विक पुनर्वास आवश्यकताओं का एक अनुमानित आकलन प्रस्तुत किया और इस आकलन के अनुसार अगले वर्ष 2 मिलियन से अधिक शरणार्थियों को पुनर्वास की आवश्यकता होगी।

इस वर्ष की 1.47 मिलियन की पुनर्वास आवश्यकताओं की तुलना में 2023 का यह आंकड़ा 36 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।

महामारी के मानवीय प्रभावों, विभिन्न लंबी शरणार्थी स्थितियों की भीड़ और पिछले एक साल में नई विस्थापन स्थितियों के उद्भव को इस वृद्धि के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है।

आकलन के अनुसार, 2023 में अफ्रीकी महाद्वीप में शरण लिए हुए कुछ 662,012 शरणार्थियों को पुनर्वास की आवश्यकता होने का अनुमान है। इसके बाद मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका (463,930) और तुर्की (417,200) का नंबर आता है। सीरिया संकट दुनिया की सबसे बड़ी शरणार्थी स्थिति बनी हुई है और लगातार सातवें वर्ष सीरियाई शरणार्थी (लगभग 777,800)  उच्चतम वैश्विक पुनर्वास आवश्यकताओं वाली आबादी का प्रतिनिधित्व करते है।

यूएनएचसीआर द्वारा जारी किये गए शरणार्थियों के ब्योरेके अनुसार पिछले वर्ष 37 प्रतिशत कानूनी और शारीरिक सुरक्षा जरूरतों वाले, 32 प्रतिशत हिंसा और/या यातना से बचे लोग तथा १७ प्रतिशत महिला किशोरों और जोखिम वाले बच्चों को पुनर्वास की आवश्यकता थीं।

वे लोग जो सबसे अधिक जोखिम में हैं या विशिष्ट आवश्यकताओं के साथ हैं और  जिन्हें उस देश में संबोधित नहीं किया जा सकता है जहां उन्होंने सुरक्षा की मांग की है, पुनर्वास उन लोगों में से कुछ की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक जीवन रक्षक उपकरण बना हुआ है।