होम > दुनिया

इंडोनेशिया की #tiktok विक्रेता जमकर कर रही व्यापार

इंडोनेशिया की #tiktok विक्रेता जमकर कर रही व्यापार

चीन के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म #tiktok के इंडोनेशिया में 106.9 मिलियन से भी अधिक वयस्क उपयोगकर्ता हैं। जहाँ एक तरफ भारत में टिकटॉक पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है वहीँ दूसरी तरफ इंडोनेशिया में tiktok के लोग काफी दीवाने है।

इंगित पाम्बुदी और उनकी पत्नी मुद्या आयु, हेडस्कार्व बनाने और बेचने के लिए जीविकोपार्जन करते हैं। यह युगल पश्चिम जावा के सिकालेंगका जिले के हजारों घरेलू उद्योगों का हिस्सा है। जिसे "कम्पुंग हिजाब" या "हिजाब गांव" के रूप में भी जाना जाता है। मुस्लिम-बहुसंख्यक इंडोनेशिया में, #Cicalengka एक अत्यधिक मांग वाली वस्तु है। इसका अधिकांश उत्पादन दक्षिण पूर्व एशियाई देश में ईंट-और-मोर्टार थोक बाजारों को पूरा करता है। लेकिन पंबुडी और उनकी पत्नी एक अधिक आधुनिक विपणन रणनीति पर भरोसा करते हैं। यह जोड़ा, टिकटॉक उपयोगकर्ता हिजाब मैडी मैडी के रूप में अपने उत्पादों को 24 घंटे लोकप्रिय वीडियो ऐप पर लाइवस्ट्रीम में बेचते हैं। पंबुदी ने बताया, हमारे पास कोई भौतिक स्टोर भी नहीं है। जब मुझे पता चला कि मैं टिकटॉक पर अपने उत्पादों को लाइवस्ट्रीम और बेच सकता हूं तो मैंने सोचा कि यह हमारे लिए एक अच्छा अवसर है।

पिछले साल रमजान के दौरान टिकटॉक पंबुडी तक पहुंचा था। पंबुडी ने बताया की किसी ने उनसे संपर्क किया और कहा की वह रिलेशनशिप मैनेजर की तरह हैं और झसे कहा कि मैं प्लेटफॉर्म पर लाइव शॉपिंग कर सकता हूं। उस समय पंबुडी हर महीने लगभग 1,000 स्कार्फ बेच रहा था। वह इंटरनेट शॉपिंग की दुनिया से बिलकुल अपरिचित नहीं थे। हालाँकि, लाइव शॉपिंग अज्ञात क्षेत्र था। लेकिन रिलेशनशिप मैनेजर ने उन्हें लाइव स्ट्रीमिंग करने का प्रशिक्षण दिया। सुविधाओं का उपयोग कैसे करें, पृष्ठभूमि का चयन, प्रकाश व्यवस्था, उपकरण और ग्राहकों से क्या कहना है सब बताया। पूरे प्रशिक्षण में हमें लगभग पाँच महीने लगे।

275 मिलियन से अधिक लोगों के साथ दुनिया के चौथे सबसे अधिक आबादी वाले देश इंडोनेशिया में टिकटॉक बेतहाशा लोकप्रिय है। चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने इंडोनेशिया में 106.9 मिलियन वयस्क उपयोगकर्ताओं की सूचना दी। जिससे देश संयुक्त राज्य अमेरिका के बाद ऐप का दूसरा सबसे बड़ा बाजार बन गया है।

वैसे तो सबको याद ही होगा की, टिकटॉक शुरू में एक म्यूजिक वीडियो प्लेटफॉर्म-कम-सोशल नेटवर्क के रूप में लॉन्च किया गया था। इसने 2017 में इंडोनेशिया में प्रवेश किया। अश्लील और ईशनिंदा वाली सामग्री के कारण इस ऐप पर अधिकारियों द्वारा कुछ समय के लिए प्रतिबंध लगा दिया गया।