होम > दुनिया

अन्य देशों के नागरिकों को रेल से भारत की यात्रा करने की अनुमति नहीं देगा नेपाल

अन्य देशों के नागरिकों को रेल से भारत की यात्रा करने की अनुमति नहीं देगा नेपाल

काठमांडू| नेपाल सरकार ने भारत की सुरक्षा के मद्देनजर बड़ा फैसला किया है। भारतीय अधिकारियों द्वारा सुरक्षा संबंधी चिंता जताए जाने के बाद नेपाल तीसरे देशों के लोगों को कुर्था-जयनगर रेलमार्ग से भारत आने की अनुमति नहीं देगा। ये जानकारी रेल विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी। 


नेपाल की स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, विभाग के महानिदेशक दीपक कुमार भट्टाराई ने कहा, "सीमा पार रेलवे संचालन के लिए मानक संचालन प्रक्रिया को अंतिम रूप देते समय इस पर सहमति बनी थी।"


एसपीए एक दस्तावेज है जो रेलवे सेवा के संचालन के दौरान अपनाई जाने वाली प्रक्रियाओं की रूपरेखा तैयार करता है।


नेपाल और भारत ने पिछले महीने नई दिल्ली में एसपीए पर हस्ताक्षर किए थे।


भट्टाराई के अनुसार, नेपाल और भारत एक सीमा साझा करते हैं। भारत को हमेशा से ही इस बात पर संदेह रहा है कि अपराधियों और आतंकवादियों द्वारा सीमा का उपयोग भारत को नुकसान पहुंचाने के लिए किया जा सकता है। दोनों पक्ष पिछले कई सालों में सीमा पार अपराधों से पीड़ित हैं।


भट्टाराई के अनुसार, नेपाल सीमा बिंदु पर सुरक्षा मंजूरी सुनिश्चित करने के लिए भारत को यात्रियों के बारे में भी सूचित करेगा। उन्होंने कहा, "जारी किए गए टिकट के आधार पर हमें भारत आने वाले यात्रियों का ब्योरा भेजना होगा।"


हालांकि एसपीए को अंतिम रूप दे दिया गया। यह स्पष्ट नहीं है कि नेपाल सरकार के साथ रेलवे सेवा फिर से कब शुरू होगी और अभी तक रेलवे सेवा पर एक कानून पेश नहीं किया गया है और नेपाल रेलवे कंपनी ने अभी तक सेवा संचालित करने के लिए कर्मचारियों को नियुक्त नहीं किया है।