होम > दुनिया

उत्तर कोरियाई हैकरों ने इटावन त्रासदी का किया इस्तेमाल - Google

उत्तर कोरियाई हैकरों ने इटावन त्रासदी का किया इस्तेमाल - Google

साउथ कोरिया में हुए हैलोवीन आपदा का फायदा उठाते हुए, राज्य समर्थित हैकर्स ने मैलवेयर के साथ इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को लक्षित करने की कोशिश की।  Google की एंटी-हैकिंग यूनिट ने उत्तर कोरियाई हैकरों पर मैलवेयर फैलाने के लिए दक्षिण कोरिया की घातक हैलोवीन क्राउड क्रश का शोषण करने का आरोप लगाया है।

Google की एंटी-हैकिंग यूनिट और थ्रेट एनालिसिस ग्रुप की रिपोर्ट के मुताबिक, राज्य समर्थित हैकर्स ने हैलोवीन क्रश पर दक्षिण कोरियाई सरकार की रिपोर्ट की तरह दिखने के लिए माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस के दस्तावेजों में दुर्भावनापूर्ण सॉफ़्टवेयर लगाया। आपको याद होगी 29 अक्टूबर की वो रात जब हजारों हेलोवीन मौज-मस्ती इटावन के नाइटलाइफ़ जिले में एक संकीर्ण गली में पैक हो गए, जिसके परिणामस्वरूप 158 युवा लोगों की मौत हो गई।


थ्रेट एनालिसिस ग्रुप ने बताया की उसने उत्तर कोरियाई सरकार समर्थित हैकर्स के एक समूह की गतिविधि का पता लगाया था। जिसे APT37 के रूप में भी जाना जाता है। इसका दक्षिण कोरियाई उपयोगकर्ताओं, उत्तर कोरियाई दोषियों, नीति निर्माताओं, पत्रकारों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को लक्षित करने का इतिहास रहा है। थ्रेट एनालिसिस ने बताया, इस घटना की व्यापक रूप से रिपोर्ट की गई थी। Google ने भी बताया की, उसने 31 अक्टूबर को अपनी खोज के कुछ घंटों के भीतर Microsoft को संबंधित सॉफ़्टवेयर भेदने की सूचना दी थी। Microsoft ने भी 8 नवंबर को समस्या को ठीक करने के लिए एक पैच जारी किया।

दुनिया भर में कई साइबर हमलों के लिए उत्तर कोरियाई हैकर्स को दोषी ठराया जा चुका है। इतना ही नहीं बल्कि, उनमें से कई साइबर-चोरी का उद्देश्य किम जोंग-उन के कैश-स्ट्रैप्ड शासन के लिए धन इकट्ठा करना है। ब्लॉकचैन एनालिसिस फर्म चैनालिसिस के अनुसार, उत्तर कोरियाई हैकर्स ने 2022 के पहले पांच महीनों में 840 मिलियन डॉलर की डिजिटल संपत्ति चुरा ली थी, जो पिछले साल 400 मिलियन डॉलर थी। लेकिन उत्तर कोरिया, जो शायद ही कभी किसी अंतरराष्ट्रीय मीडिया का जवाब देता है, उसने अमेरिका और उसके सहयोगियों पर दुर्भावनापूर्ण अफवाहें फैलाने का आरोप लगाते हुए साइबर हमले करने से इनकार किया है।