होम > दुनिया

कराची से महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों सहित श्रद्धालु पहुँचे पवित्र धाम पुरी मंदिर-मेधज़

कराची से  महिलाओं, बच्चों  और  बुजुर्गों  सहित श्रद्धालु  पहुँचे  पवित्र  धाम  पुरी  मंदिर-मेधज़

कराची से  महिलाओं, बच्चों  और  बुजुर्गों  सहित श्रद्धालु  पहुँचे  पवित्र  धाम  पुरी  मंदिर-मेधज़ न्यूज़ 

भक्त और भगवान के बीच लगन और इरादा सच्चा हो तो उन्हें एक दूसरे से मिलने से कोई नहीं रोक सकता, ऐसे में कभी भगवान भक्त की और खींचे चले आते हैं तो कभी भक्त अपने भगवान से मिलने की व्याकुलता में उनकी और भागे चले आते हैं। अपने एक अनोखे तरह के अनुभव साथ पाकिस्तान के कई हिंदू भक्तों ने ओडिशा के पुरी में श्रीमंदिर में श्री भगवान जगन्नाथ के दर्शन की व्याकुलता में पाकिस्तान से हिंदुस्तान खिंचे चले आए।

पाकिस्तान के कराची से महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों सहित कम से कम 45 श्रद्धालु देवी-देवताओं के दर्शन के लिए पवित्र धाम श्री भगवान जगन्नाथ पुरी मंदिर पहुँचे। भारतीय सुरक्षा प्रोटोकॉल के तहत प्रवेश से पहले उनके पासपोर्ट की जांच की गई और उन्हें प्रवेश की अनुमति प्रदान की गई।

प्रमुख मंदिर श्री भगवान जगन्नाथ, सुभद्रा और बलभद्र के अद्भुद दर्शन करने के उपरांत वहाँ के महाभोग जिसके के लिए देवता भी मानव रूप धर धरती पर उसका स्वाद लेने के लिए आते हैं, उसे ग्रहण किया और पुरी की पावन धरती पर अपना जन्म सुफल किया।

इन सभी भक्तों ने 11 जनवरी को कराची से अपनी यात्रा शुरू की थी और पुरी पहुँचने-पहुंचते भारत के विभिन्न प्रतिष्ठित पवित्र मंदिरों के दर्शन भी किए।

अपने अनुभव के बारे में बात करते हुए एक भक्त ने कहा कि श्री भगवान जगन्नाथ की पूजा करना उनके लिए एक दिव्य अनुभव और परम सौभाग्य था।

प्रभु दर्शन ने हमें एक दिव्य अनुभूति दी प्रदान की व जिसका अनुभव अवर्णनीय हैं, उन्होंने ये बताया कि भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा 2009 से हर साल कराची में आयोजित की जा रही है, वर्ष 2022 में कराची में 14वीं रथ यात्रा हुई। 14 साल के लंबे इंतजार के बाद आखिरकार हमें देवी-देवताओं के दर्शन हुए। हम इस अवसर के लिए भारत और पाकिस्तान की सरकारों को धन्यवाद देते हैं।