होम > दुनिया

इस देश में बुजुर्गों को मिलेगी पेंशन, शुरू होगी निजी पेंशन योजना

इस देश में बुजुर्गों को मिलेगी पेंशन, शुरू होगी निजी पेंशन योजना

बुजुर्गों के लिए पेंशन योजना काफी अहम होती है। चीन में हाल के वर्षों में बुजुर्गों की बड़ी आबादी एक चिंता का विषय रही है। इसे देखते हुए चीन सरकार समय-समय जनसंख्या संतुलन व बुजुर्गों को बेहतर सुविधाएं प्रदान करने के लिए कदम उठाती रही है। 


इसी कड़ी में चीन ने पिछले दिनों बढ़ती उम्र की आबादी को तनाव से बचाने के लिए ताजा प्रयास किया है। इसके तहत बूढ़े लोगों को राहत दिलाने के लिए प्राइवेट पेंशन योजना शुरू करने की घोषणा की गयी है।


चीनी स्टेट काउंसिल द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, यह योजना चीनी नागरिकों को व्यक्तिगत पेंशन खातों में सालाना 12 हजार युआन (लगभग 1,872 डॉलर) तक योगदान करने की अनुमति देती है, जो कि क्लोज-एंड प्रबंधन के तहत होगा।


बताया जाता है कि पेंशन की इस सीमा को सामाजिक और आर्थिक विकास के साथ-साथ देश की पेंशन व्यवस्था के अनुसार निर्धारित किया जाएगा।


दिशानिर्देशों के अनुसार, खातों में धनराशि का उपयोग उन वित्तीय उत्पादों को खरीदने के लिए किया जा सकता है जो अपेक्षाकृत कम जोखिम वाले हैं और इनमें लंबी अवधि का निवेश किया जा सकता है। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि वर्तमान में मूल पेंशन बीमा में योगदान करने वाले कर्मचारी स्वैच्छिक आधार पर योजना में शामिल हो सकते हैं।


ध्यान रहे कि चीन सरकार नई प्रणाली में भागीदारी को प्रोत्साहित करने के लिए कर प्रोत्साहन की पेशकश करेगी। जानकारी के मुताबिक यह योजना देश भर में लागू होने से पहले एक साल के लिए कुछ शहरों में शुरू की जाएगी।


विश्लेषकों का मानना है कि निजी पेंशन व्यवस्था देश की मौजूदा पेंशन प्रणाली का पूरक होगी, जिसमें बुनियादी वृद्धावस्था पेंशन, उद्यम वार्षिकी के साथ-साथ बुजुर्गों के लिए वाणिज्यिक बीमा शामिल है। यह देश में मौजूद बड़ी बुजुर्ग आबादी को सहायता मुहैया कराने के लिए एक और कदम उठाने का उदाहरण है।


जानकार कहते हैं कि चीन की सरकार और संबंधित विभाग तेजी से बुजुर्ग हो रही आबादी को पेश आने वाली समस्याओं और चुनौतियों के समाधान के लिए सक्रिय रूप से उपाय कर रहे हैं। ताजा राष्ट्रीय जनगणना के अनुसार वर्ष 2020 तक साठ या उससे अधिक आयु के चीनी नागरिकों की संख्या 26 करोड़ से ज्यादा पहुंच गयी है, जो देश की कुल आबादी का 18.7 फीसदी हिस्सा है। इससे जाहिर होता है कि चीन में बूढ़े लोगों की तादाद एक समस्या है, इसे देखते हुए सरकार ने लोगों को दो और दो से अधिक बच्चे पैदा करने की छूट दे दी है।