भारतविशेष खबर

पंचक अगस्त 2023: 2 अगस्त से लग रहा है पंचक, ज्योतिष शास्त्र में अशुभ समय माना जाता है।

Table of Contents

2 अगस्त 2023 से पंचक के दिन, ज्योतिष शास्त्र में अशुभ गुणों से भरी अवधि।

पंचक एक ऐसी अवधि है जो ज्योतिष शास्त्र में 5 अशुभ दिनों के रूप में मानी जाती है। इस समय में कई लोग शुभ कार्यों से बचते हैं, क्योंकि मान्यता है कि इस दौरान नए काम शुरू नहीं करने चाहिए अन्यथा विभिन्न परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। अगस्त में पंचक शुरू हो रहा है और यह जानना महत्वपूर्ण है कि इसकी अवधि कब से कब तक है और इस दौरान किसी भी शुभ कार्य को कैसे बचाया जा सकता है। इस लेख में, हम अगस्त 2023 में पंचक की तारीखों और इसके प्रभाव के बारे में विस्तार से जानेंगे।

Panchak 2023: जब शुभ कार्यों में बाधक बने पंचक तो बचने के लिए करें ये 5 अचूक उपाय | Panchak 2023 Dates Timings Niyam Upay in Hindi | TV9 Bharatvarsh
tv9hindi.com

अगस्त में पंचक की तारीखें

पंचक अगस्त 2023 में 2 अगस्त को बुधवार से शुरू हो रहा है और इसकी अवधि 7 अगस्त को प्रात: 01 बजकर 43 मिनट तक रहेगी। यह अवधि 5 दिनों की होती है और इस समय में विभिन्न नक्षत्रों के मेल के कारण अशुभ घटनाएं हो सकती हैं। इस दौरान विशेषतः नए काम शुरू नहीं करने और निवेश करने से बचने की सलाह दी जाती है।

Panchak 2023: आज से पंचक शुरू, इन कार्यों के लिए शुभ रहेंगे अगले 5 दिन
hindi.news24online.com

अगस्त पंचक 2023 में व्रत-त्योहार

पंचक अगस्त 2023 में दो विशेष व्रत-त्योहार आयोजित होंगे। पहला व्रत है अधिकमास की विभुवन संकष्टी चतुर्थी, जो 4 अगस्त 2023 को होगा। दूसरा व्रत है सावन का पांचवा सोमवार, जो 7 अगस्त 2023 को मनाया जाएगा। हालांकि, गणपति और शिव पूजा में पंचक का कोई असर नहीं होता है। ध्यान देने योग्य है कि इन व्रत-त्योहारों के दौरान विशेष सावधानी बरती जाए, ताकि कोई अनजानी दुर्घटना ना हो।

2 अगस्त से पंचक की शुरुआत, शुभ कार्यों पर रहेगी रोक, जानें क्या करें और क्या न करें - Bharat Express Hindi
hindi.bharatexpress.com

पंचक के अशुभ प्रभाव से कैसे बचें

अगस्त में पंचक के दौरान नीचे दिए गए तरीकों को अपनाकर इसके अशुभ प्रभाव से बचा जा सकता है:

दक्षिण दिशा की यात्रा से बचें:

पंचक काल में यात्रा करने से बचने के लिए आपको दक्षिण दिशा की ओर यात्रा नहीं करनी चाहिए।

हनुमान जी की पूजा करें:

अगर किसी कारणवश आपको पंचक काल में यात्रा करनी है, तो हनुमान जी को गुड़-चने का भोग लगाकर उनकी पूजा करने से इसके प्रभाव को कम किया जा सकता है।

शव के साथ कार्य सम्पन्न करें:

पंचक काल में किसी की मृत्यु हो जाने पर, शव के साथ कार्य सम्पन्न करके इसके प्रभाव को खत्म किया जा सकता है। इसके लिए शव के पास 5 कुश के पुतले बनाकर विधि-विधान से अंतिम संस्कार करने की सलाह दी जाती है।

नए काम और निवेश से बचें:

पंचक के दौरान नए काम शुरू नहीं करने और निवेश नहीं करने की सलाह दी जाती है। अगर कोई आवश्यक काम है, तो इसे पंचक काल से पहले या उसके बाद करना उचित होता है।

छत का निर्माण कार्य में ध्यान दें:

अगर घर के निर्माण कार्य की योजना है, तो पंचक काल से पहले मजदूरों को काम पर लगाने से प्रभाव कम होता है। आप उन्हें मीठा खिला सकते हैं और उनकी मदद कर सकते हैं ताकि पंचक काल का प्रभाव समाप्त हो जाए।

इन सभी उपायों को अपनाकर अगस्त में पंचक के अशुभ प्रभाव से बचा जा सकता है। ध्यान देने योग्य है कि पंचक अवधि में अपने धर्म और विश्वासों का आचरण जारी रखें और सभी कार्यों में सावधानी बरतें।

सारांश

अगस्त में पंचक के दौरान 2 अगस्त 2023 से पंचक का आरंभ हो रहा है और इसकी अवधि 7 अगस्त 2023 तक रहेगी। यह अवधि ज्योतिष शास्त्र में अशुभ गुणों से भरी मानी जाती है और इसके दौरान नए काम शुरू नहीं करने और विभिन्न परेशानियों का सामना करने से बचने की सलाह दी जाती है। अगस्त पंचक 2023 में विशेष व्रत-त्योहार भी हैं जिन्हें ध्यान से मनाना चाहिए। पंचक के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए कुछ उपायों का पालन कर सकते हैं, जिससे इसका प्रभाव कम होता है।

FAQs

1. पंचक क्या है और इसकी अवधि कितनी होती है?

पंचक एक ऐसी अवधि है जो ज्योतिष शास्त्र में 5 अशुभ दिनों के रूप में मानी जाती है। इसकी अवधि 5 दिनों की होती है और इस समय में विभिन्न नक्षत्रों के मेल के कारण अशुभ घटनाएं हो सकती हैं।

2. अगस्त में पंचक के दौरान कौन-कौन से व्रत-त्योहार मनाए जाते हैं?

अगस्त में पंचक के दौरान दो विशेष व्रत-त्योहार मनाए जाते हैं। पहला व्रत है अधिकमास की विभुवन संकष्टी चतुर्थी, जो 4 अगस्त 2023 को होगा। दूसरा व्रत है सावन का पांचवा सोमवार, जो 7 अगस्त 2023 को मनाया जाएगा।

3. पंचक के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए कौन-कौन से उपाय किए जा सकते हैं?

पंचक के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए आप नीचे दिए गए उपायों का पालन कर सकते हैं:

दक्षिण दिशा की यात्रा से बचें
हनुमान जी की पूजा करें
शव के साथ कार्य सम्पन्न करें
नए काम और निवेश से बचें
छत का निर्माण कार्य में ध्यान दें
ये उपाय आपको पंचक के अशुभ प्रभाव से बचने में मदद कर सकते हैं।

4. पंचक का प्रभाव किस प्रकार से जाना जा सकता है?

पंचक का प्रभाव पंच नक्षत्रों का मेल होने से होता है। इन पंच नक्षत्रों में शतभिषा, उत्तराभाद्रपद, पूर्वाभाद्रपद, रेवती, पूर्वा भाद्रपद और धनिष्ठा नक्षत्र शामिल होते हैं। इस समय में इन नक्षत्रों के प्रभाव से विभिन्न अशुभ घटनाएं हो सकती हैं।

5. पंचक का प्रभाव समाप्त करने के लिए क्या किया जा सकता है?

पंचक का प्रभाव समाप्त करने के लिए ध्यान देने योग्य है कि आप अगस्त में पंचक काल के दौरान नए काम शुरू नहीं करें और विभिन्न परेशानियों से बचने के लिए उपायों का पालन करें। विशेषज्ञ से सलाह लेने से पहले आपको ध्यान देने योग्य है कि आपके धर्म और विश्वासों का आचरण जारी रहें और सभी कार्यों में सावधानी बरतें।

Read More..

जानिए रक्षा बंधन 2023 तिथि और शुभ मुहूर्त (समय) के बारे मे

पद्मिनी एकादशी: भगवान विष्णु की अनुष्ठानीय उपासना का महत्व

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button