दिल्लीराज्य

G20 समिट की वजह से दिल्ली में भिखारियों और नशेड़ियों को पुलिस देगी स्पेशल ट्रीटमेंट

ग्लोबल G-20 (G20) समिट का आयोजन 2023 में भारत के नई दिल्ली में हो रहा है। इस समिट के आगमन के साथ ही, दिल्ली में भिखारी, नशेड़ी और किन्नरों के लिए खास इंतजामात किए जा रहे हैं। इसका उद्देश्य यह है कि समिट के दौरान दिल्ली को बेहतर रूप से प्रस्तुत किया जा सके और देशवासियों के साथ साथ यात्री भी सुरक्षित रहें। यहां हम इस विषय पर विस्तार से चर्चा करेंगे और देखेंगे कि कैसे G-20 समिट के इंतजाम ने भिखारियों और नशेड़ियों के लिए एक नई दिशा में कदम बढ़ाया है।

G20 Summit Do not do this work from your rooftop for a few days in Delhi otherwise go in jail Delhi G20 Summit: दिल्ली में कुछ दिन आप अपने छत से ना करें ये काम, वर्ना सीधे हो सकती है जेल!
abplive.com

Table of Contents

G-20 समिट की तैयारियों में बदलाव

ग्लोबल G-20 समिट एक महत्वपूर्ण स्टेज है, और इसकी तैयारियों के दौरान दिल्ली पुलिस ने भिखारियों और नशेड़ियों के लिए बड़े बदलाव किए हैं। सुरक्षा व्यवस्था को मजबूती से चाक-चौबंद किया गया है ताकि कोई भी आतंकवादी घुसपैठ न कर सके। इसके अलावा, दिल्ली के कई इलाकों में ट्रैफिक मूवमेंट में भी बदलाव किया गया है ताकि सड़कों पर अधिक जाम न हो।

G20 समिट: बैंक-स्कूल बंद, बसों पर भी पाबंदी... अगले महीने दिल्ली में 3 दिन लागू होंगे ये नियम - g20 summit delhi traffic police advisory restricted areas metro bus services all you
aajtak.in

विशेष इंतजाम भिखारियों के लिए

G-20 समिट के तहत, नई दिल्ली के कई प्रमुख इलाकों में भिखारियों, नशेड़ियों और किन्नरों के लिए विशेष इंतजामात किए गए हैं। कनॉट प्लेस, जनपथ, बंगला साहिब गुरुद्वारा, केजी मार्ग और हनुमान मंदिर के आसपास भिखारी, नशेड़ी और किन्नरों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके साथ ही, हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पहाड़गंज और अजमेरी गेट दोनों तरफ इन लोगों के घुसने पर मनाही लगाई गई है। अगर इन इलाकों में भिखारी दिखता है, तो उसे एक शेल्टर हाउस में छोड़ दिया जाएगा।

G20 Summit 2023 India Special Arrangements for baggers and drug addicts in delhi Police will take care of them G20 समिट की वजह से दिल्ली में भिखारियों और नशेड़ियों को मिलेगा स्पेशल ट्रीटमेंट, मेहमान बनाकर रखेगी पुलिस
abplive.com

ट्रांसफर का इंतजाम

इस समय दिल्ली पुलिस हर रोज़ ट्रैफिक समस्याओं का समाधान प्रेस ब्रीफिंग के जरिए कर रही है। इस क्रम में भिखारियों, नशेड़ियों और किन्नरों का समाधान भी निकाला गया है और इन लोगों को गीता कॉलोनी, रोहिणी और द्वारका सेक्टर-3 के बाहरी इलाकों में ट्रांसफर किया गया है। दिल्ली सरकार ने कुछ दिन पहले चार सदस्यीय समिति का गठन किया है जो इन लोगों के हकों की सुनवाई करेगी।

G-20 शिखर सम्मेलन के चलते दिल्‍ली के भिखारियों की हुई मौज, जानें कैसे? | Delhi's beggars and drug addicts will get special care due to G-20 summit - Hindi Oneindia
hindi.oneindia.com

भीख मांगना अब भीख नहीं

यह बड़ा महत्वपूर्ण है कि दरअसल, अब दिल्ली में भीख मांगना को क्राइम नहीं माना जाता है। साल 2019 में दिल्ली हाईकोर्ट ने भीख मांगने को अपराध की श्रेणी से हटा दिया था। ऐसे में, दिल्ली पुलिस अब भीख मांगने वाले और फुटपाथ पर सोने वाले लोगों को अन्य जगहों पर ट्रांसफर कर रही है, जिससे समिट के दौरान शहर की सफाई और सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।

दिल्ली पुलिस के दिल की धड़कन

G-20 समिट की अहमियत को ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस ने यह फैसला किया है कि इस समय शहर में आए हुए यात्री को हर संभाव सहायता प्रदान की जाएगी। होटल और दूतावास नई दिल्ली जिले में आते हैं तो इस इलाके में G-20 के प्रतिनिधि भी मौजूद रहेंगे। नई दिल्ली इलाके के सभी भिखारियों, किन्नरों, नशेड़ियों और फुटपाथ पर सोने वाले लोगों का खयाल दिल्ली पुलिस रखेगी। इनके रहने और खाने-पीने का इंतजाम भी पुलिस ही करेगी, ताकि वे समिट के इस महत्वपूर्ण मौके को सुरक्षित रूप से बिता सकें।

निष्कर्षित परिणाम

इस तरह, G-20 समिट के आयोजन के साथ ही दिल्ली पुलिस ने भिखारियों और नशेड़ियों के लिए विशेष इंतजामात किए हैं ताकि समिट के दौरान शहर की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके। इन कदमों से भिखारी, नशेड़ी और किन्नरों को नई दिशा में मदद मिल सकती है और उन्हें स्वयं को समाज का हिस्सा मानने का अवसर मिल सकता है।

FAQs (पूछे जाने वाले प्रश्न)

G-20 समिट क्या है?

G-20 समिट एक विश्व स्तरीय आरूपण है जिसमें विभिन्न देशों के नेताओं का मिलकर वित्तीय मुद्दों पर चर्चा होती है।

क्या भिखारी अब अपराध नहीं माने जाते हैं?

हां, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के बाद अब भिख मांगना को अपराध नहीं माना जाता है।

क्या G-20 समिट के इंतजामों से भिखारियों को मदद मिलेगी?

हां, G-20 समिट के इंतजामों से भिखारियों को नई दिशा में मदद मिल सकती है और उन्हें समाज का हिस्सा मानने का अवसर मिल सकता है।

कैसे यात्री G-20 समिट के दौरान सुरक्षित रह सकते हैं?

यात्री ग-20 समिट के दौरान सुरक्षित रहने के लिए दिल्ली पुलिस द्वारा कई सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं, जिनमें प्रशासनिक और सुरक्षा सुविधाएँ शामिल हैं।

कैसे G-20 समिट का अहमियत दिल्ली के लिए है?

G-20 समिट के आयोजन से दिल्ली को अंतरराष्ट्रीय मान्यता मिलती है और शहर की विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका बजाने में मदद मिलती है।

निष्कर्षित संख्याएँ

इस लेख के माध्यम से हमने देखा कि G-20 समिट के आगमन के साथ ही दिल्ली में भिखारियों और नशेड़ियों के लिए विशेष इंतजामात किए गए हैं। यह समिट शहर को बेहतर रूप से प्रस्तुत करने का मौका प्रदान करता है और सड़कों पर अधिक जाम न होने में मदद करता है। दिल्ली पुलिस भीखारियों और नशेड़ियों के लिए बेहतर सुरक्षा और जीवन की शर्तें प्रदान कर रही है, ताकि वे समाज का हिस्सा बन सकें।

इस अद्वितीय समिट के दौरान, यह सुनिश्चित किया गया है कि यात्री सुरक्षित रहें और इस समय का आनंद उठा सकें। ग-20 समिट के अहमियत को ध्यान में रखते हुए, दिल्ली पुलिस ने अपने इंतजामों को परिपूर्ण किया है और इसे एक सफल और सुरक्षित इवेंट बनाने का प्रयास किया है।

Read More…

दिल्ली यातायात पुलिस आयुक्त ने जी20 शिखर सम्मेलन के मद्देनज़र व्यापक प्रतिबंधों की घोषणा की-मेधज़ न्यूज़

दिल्ली में महिला का बेरहमी से मर्डर, फिर हत्यारे ने छत पर जाकर देशी कट्टे से खुद को मार ली गोली

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button