बेचारे लीलू भाई

Poor brother Leelu

भागदौड़ भरी जिंदगी में हँसना कितना जरूरी है ये भी इंसान भूल गया, हम आज आपके लिए एक ऐसी कहानी लाये हैं जो आपकी सारी थकान और तनाव दूर कर दे ये हमारी कोशिश है तो आइये चलते है फनी स्टोरी की तरफ

एक बार बख्तावर बैलगाड़ी में अनाज के बोरे लादकर शहर ले जा रहा था।
तभी अचानक गढ्ढे में बैलगाड़ी पलट गई । बख्तावर बैलगाड़ी को सीधा करने की कोशिश करने लगा।
थोड़ी ही दूर पर पेड़ के नीचे बैठे गजोधर ने बख्तावर को आवाज़ दी- अरे भाई परेशान मत हो, आ जाओ
पहले मेरे साथ खाना खा लो फिर मैं तुम्हारी गाड़ी सीधी करा दूंगा।
गजोधर – धन्यवाद पर मैं अभी नही आ सकता मेरा दोस्त लीलू नाराज़ हो जाएगा
गजोधर- अरे तुमसे अकेले नहीं उठेगी गाड़ी, आओ खाना खा लो फिर दोनों मिल कर उठाते है।
बख्तावर- नही लीलू गुस्सा हो जाएगा।
गजोधर- अब मान भी जाओ भाई, मेरी बात मान भी लो ।
बख्तावर- ठीक है आप कहते हैं तो आ जाता हूँ।
खाना खाने के बाद बख्तावर बोला चलो चलते है गाड़ी के पास लीलू गुस्सा हो रहा होगा।
गजोधर ने मुस्कुराते हुए कहा तुम इतना डर क्यों रहे हो वैसे इस समय कहाँ होगा लीलू ?
बख्तावर- भाई, गाड़ी के नीचे दबा हुआ है।
बख्तावर की बात सुनकर गजोधर चक्कर खा कर बेहोश हो गया।

ऐसी और फनी स्ट्रोरी और जोक्स के लिए पढ़ते रहे मेधज न्यूज़ !

read more… इंजीनियरिंग कॉलेज के स्टूडेन्ट :- Sir ji, हमने लैब में एक ऐसी चीज बनाई है

Exit mobile version