मनोरंजनहास्य

चिंटू के रिश्तेदार :- बेटा तुम बड़े होकर आगे ज़िन्दगी में क्या करोगे

चिंटू के रिश्तेदार :- बेटा तुम बड़े होकर आगे ज़िन्दगी में क्या करोगे

चिंटू :- मैं अपनी जिंदगी में कुछ भी कर लूंगा,

लेकिन किसी के घर जाके और उनके ही बच्चों से कभी भी ऐसे सवाल नहीं करूँगा

——————————————————————————

चिंटू -पुलिस वालों से :- साहब जी, प्लीज आप मेरी जल्दी से मदद कीजिए।

क्योंकि कल रात से मुझे कोई धमकी भरी कॉल करे जा रहा है।

पुलिसवाले :- कुछ याद करों वह कौन हो सकता है?

चिंटू :- वो शायद मेरी गर्लफ्रेंड का पति ही मुझे लग रहा है…

——————————————————————————

रमेश की पत्नी सरिता :- डॉक्टर साहब, मुझे पिछले कुछ दिनों से एक अजीब सी बीमारी लग गयी है

डॉक्टर :- बहन जी, कौन सी बीमारी लग गई जरा बताइये?

सरिता :- जब से मैने फ़ोन लिया है तब से

और जब मैं किसी से बात करती हूं

तो वो मुझे बिल्कुल दिखाई भी नहीं देता

डॉक्टर :- ओह्ह ऐसा कब-कब हुआ तुम्हारे साथ?

सरिता :- जब-जब मैने किसी से कॉल पर बात की है।

(डॉक्टर अभी तक बेहोश है)

——————————————————————————

मास्टर साहब-भोलू से :- “बेटा, मान लो कि मैंने आपको टोटल 8 टॉफी दी !”

भोलू :- “सर जी में ऐसे कैसे मान लूँ … आपने तो मुझे अभी तक एक भी टॉफी नहीं दी ?”

मास्टर साहब :- “अरे मान ले न भोलू ! मानने में तेरे दादाजी का क्या जाता है ?”

भोलू :- “ओके सर …”

मास्टर साहब :- “तो एक काम कर उसमें से 4 तूने मुझे वापस दे दिए

तो अब ये बता तेरे  पास कितनी टॉफी बची ?”

भोलू :-  जी सर “16 टॉफी !!!”

मास्टर साहब – “अरे वो कैसे ?”

भोलू :- “अरे सर आप भी मान लीजिए ना ! मानने में आपके दादाजी का क्या जाता है !!!”

——————————————————————————AR

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button