ये तो न सोचा था- भाग 9

Medhaj news 2 Jun 20 , 16:36:08 Special Story Viewed : 1420 Times
poem.jpg

नोट: अगर आपने इस कहानी के पिछले भाग नहीं पढ़े हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं-

भाग- 1: ये तो न सोचा था        

भाग- 2: ये तो न सोचा था 

भाग- 3: ये तो न सोचा था

भाग- 4: ये तो न सोचा था 

भाग- 5: ये तो न सोचा था

भाग- 6: ये तो न सोचा था     

भाग- 7: ये तो न सोचा था

भाग- 8: ये तो न सोचा था    



भाग- 9: ये तो न सोचा था?



शुभी- देखिये, पहेलियाँ मत बुझाइये और सही शब्दों में समझाइये?

महेंद्र जी- शुभी, मैं अपनी प्रियल से बहुत प्यार करता हूँ पर उस समय मैं मज़बूर था। तुन दोनों की सुरक्षा के लिए ही मुझे तुम्हें यहाँ से दूर करना पड़ा। क्योंकि मेरे माता-पिता पर खानदान के वारिश का भूत सवार था और अगर उन्हें ये पता लगता कि मैं तुम्हारे साथ हूँ तो वो किसी न किसी बहाने से प्रियल को जन्म लेने से पहले ही तुम्हारी कोख में मारने के सारे उपाय करते। क्योंकि उन्होंने तुम्हारे चेकअप के बहाने हमारे फैमिली डॉक्टर से ये पहले ही जान चुके थे कि तुम्हारे गर्भ में बेटी है। इसीलिए मैंने तुम्हारे सामने ऐसी शर्त रखी जिसमें एक माँ का पलड़ा भारी होना स्वाभाविक ही था।

शुभी (आश्चर्य भरी उदास नज़रों से महेंद्र जी की ओर देखते हुए)- और वो शर्त यह थी कि- 'मैं या फिर ये पता करके कि मेरे गर्भ में बेटी हो तो उसे गिरा दूँ या आपकी ज़िन्दगी से दूर चली जाऊँ।’

महेंद्र जी (भीगीं आखों के साथ सिर को हिलाते हुए)- हाँ, क्योंकि मुझे पता था कि तुम मुझे तो छोड़ सकती हो पर अपने होने वाले बच्चे को कभी कोई नुकसान नहीं होने दोगी। और देखो मैं सही था। मुझे पता था कि तुम स्वाभिमानी हो और अपने माता-पिता या किसी रिश्तेदार के घर भी नहीं जाओगी। इसीलिए मेरे कहने पर ही कुसुम तुमसे स्टेशन पर टकराई थी और तुम्हारे मना करने के बावजूद तुम्हें अपने साथ अपने घर ले गयी थी।

हालाँकि मैं पहले से अपने माता-पिता की इस सोच से वाकिफ नहीं था क्योंकि मेरे कोई भाई-बहन नहीं थे तो लड़कियों के प्रति उनकी ये हीन भावना कभी देख ही नहीं पाया और शायद मेरी कोई बहन नहीं होने कि वजह भी उनकी ये दकियानूसी सोच ही रही हो। परन्तु अकेली संतान होने के नाते उनकी ऐसी घृणित सोच होने के बावज़ूद भी मैं उन्हें इस उम्र में अकेला और बेसहारा नहीं छोड़ सकता था। इसलिए मैंने सोचा कि तुमसे दूर रहकर ही अपने परिवार को बचा पाऊँ शायद!! फिर तुम्हारी उम्र भी कोई ज्यादा नहीं थी तो सोचा कि............

शुभी- कि मैं दूसरी शादी करके फिर घर बसा लुंगी? (महेंद्र जी सहमति में सर हिलाते हुए) और मतलब कुसुम को सब पता था और उसने भी मुझे कुछ नहीं बताया? और आपने मुझे पहले क्यों नहीं बताया ये सब? और हाँ समझ तो आप भी नहीं पाए थे मुझे। कैसे सोच लिया था आपने कि मैं दूसरी शादी..?

महेंद्र जी- शुभी, मैं नहीं चाहता था कि बाकि महिलाओं की तरह ही तुम भी किसी दोराहे पर खड़ी रहो क्योंकि भारतीय नारियों में पति को परमेश्वर मानने के चक्कर में स्त्रियाँ सदा ही पिसती रही हैं और पत्नी और माँ के अहम् किरदार में उलझ के रह जाती हैं। यही कारण है कि मैंने तुम्हें घर छोड़ने पर ज्यादा जोर दिया क्योंकि अपने माता-पिता कि नाजायज मांग पूरी करने के लिए मैं किसी जीव हत्या का पक्षधर कभी नहीं बन सकता था। वैसे भी दूसरा बच्चा बेटा ही होता ये ज़रूरी भी तो नहीं था? उस समय मुझे यही सही लगा।

शुभी (आँखों में अश्रु धारा भरे हुए)- आप ने तो अपना निर्णय ले लिया था पर मेरी उस समय की परिस्थिति का जरा सा अंदाजा भी है आपको?



जब हम अपनी ही तलाश में निकले,

न ज़िंदा थे, न मरे थे; ऐसे हालात में निकले।

कैसे बयाँ करें हम उन ज़ज़्बातों को,

न अकेले ही थे और न ही किसी के साथ में निकले।

सबके साथ चलते-चलते भी तनहा ही रह गए हम,

बस अब यही आह मेरी हर बात में निकले।

कैसे आगे बढ़े जब रास्ते ही न हो,

और पीछे जाने का रास्ता खुद ही बंद करके,

हम इस बुरे हालात में निकले।

कैसे कहें कि इस दुनिया में अपना है कोई;

जब ज़रूरत के समय ही वो मेरे साथ न निकले।

जिन्हें सौंपी थी अपने जीवन की कमान हमने,

हमारे क़त्ल करने के लिए खंजर उन्हीं के हाथ में निकले।

अब हम अकेले तो हैं, पर अधूरे नहीं हैं,

आगे बढ़ने से रोकने वाली सामाजिक जंजीरे नहीं हैं।

कुछ वक्त की नज़ाकत है और कुछ अपनों की यादें,

जिनके असर से शब्दों के रूप में ये सारे ज़ज्बात बह निकले।


तभी उन्हें किसी की आवाज़ सुनाई दी उन्हें- शुभी, महेंद्र जी बिल्कुल सच कह रहे हैं। तेरी जो भी मदद आज तक मैंने की है वो महेंद्र जी की ही मेहरबानियाँ हैं मैं तो बस माध्यम भर थी। यहाँ तक की तेरी नौकरी, मेरे द्वारा की गयी प्रियल की पढ़ाई में मदद, प्रियल की स्कालरशिप सब इन्होंने ही किया था। यहाँ तक की इन्होंने मुझे कई बार तुम्हें दूसरी शादी के लिए तैयार करने को भी कहा ताकि तुम एक सुखी जीवन जी सको। पर तुम तैयार ही न हुई। तब भी ये अपने आप को माफ़ नहीं कर पा रहे थे इसीलिए इन्होंने तुम्हारे ही नाम से सुभद्रा देवी चिकित्सालय की स्थापना की जिसमें बेटी को जन्म देने वाली महिलाओं को निःशुल्क चिकित्सा सुविधाएं प्रदान की जाती हैं। इसके अलावा वो हवेली जहाँ तुम, महेंद्र जी के साथ रहती थी उसे भी इन्होंने बालिका विद्यालय में परिवर्तित कर दिया है। जहाँ लड़कियों को प्राइमरी शिक्षा निःशुल्क दी जाती है।

महेंद्र और शुभी (आश्चर्य से एक साथ)- अरे कुसुम! पर तुम यहाँ कैसे?



(अब अचानक से कुसुम कैसे गयी? जानने के लिए जुड़े रहे मेधज न्यूज़ के साथ)



नोट:- इस कहानी के मात्र दो भाग और बचे हैं। अब तक इस सफर में साथ देने के लिए दिल से धन्यवाद।



[ इस कहानी का अगला भाग पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें- भाग- 10: ये तो न सोचा था ]



----(भावना मौर्य)----



 


    90
    0

    Comments

    • Nice story

      Commented by :Sunil Sharma
      13-06-2020 10:04:22

    • Interesting

      Commented by :Kunal chandra
      04-06-2020 15:06:23

    • "Great piece" .The following lines struck me 'jb hum apni hi talaash me nikle...'

      Commented by :Sheetal Singh
      04-06-2020 00:18:30

    • Interesting part.. waiting for next.

      Commented by :Rajeev Kumar
      03-06-2020 11:50:45

    • Nice story.. waiting for next part..

      Commented by :Neeta
      03-06-2020 10:24:10

    • Thanks God kahani achhi mod par hai

      Commented by :Sateesh ????
      03-06-2020 09:16:04

    • Good one..like it

      Commented by :Rohit Deo
      03-06-2020 07:44:46

    • Nice be continue

      Commented by :Indrajeet arya
      03-06-2020 06:03:53

    • Good

      Commented by :Kamlesh Kumar mishra
      03-06-2020 05:41:23

    • Nice

      Commented by :Vinod Tiwari
      02-06-2020 23:35:38

    • Nice

      Commented by :Zain
      02-06-2020 23:12:49

    • Very nice

      Commented by :Mayank Singh
      02-06-2020 22:46:53

    • Commented by :Diksha Vishwakarma
      02-06-2020 22:42:24

    • Nice story

      Commented by :Dharmendra pandey
      02-06-2020 22:32:46

    • Beautiful turn of story

      Commented by :preetimaurya
      02-06-2020 22:19:31

    • Waiting for those two parts.

      Commented by :Badre Alam
      02-06-2020 22:16:46

    • Nice story

      Commented by :Amit Kumar
      02-06-2020 22:12:37

    • Amazing story as a hole of 9 part.

      Commented by :Gaurav Singh, Haridwar, (Uttrakhand)
      02-06-2020 22:11:16

    • Nice line

      Commented by :Ashish kumar nainital
      02-06-2020 21:59:11

    • Nice poem.

      Commented by :Pankaj Kumar
      02-06-2020 21:42:38

    • Nice

      Commented by :Shreya
      02-06-2020 21:40:13

    • Interesting story

      Commented by :Aatma Ram
      02-06-2020 21:39:14

    • Truth

      Commented by :Pankaj Kumar Sharma
      02-06-2020 21:14:53

    • Great lines

      Commented by :Mani
      02-06-2020 21:12:57

    • Nice

      Commented by :Pravesh Kumar Satyarthi
      02-06-2020 20:51:28

    • Fabulous Series

      Commented by :Bhavna Tiwari
      02-06-2020 20:24:12

    • Awesome

      Commented by :abhiyant kumar singh
      02-06-2020 20:21:27

    • Awesome line

      Commented by :Bimlesh Kumar
      02-06-2020 20:12:43

    • Interesting

      Commented by :Alok Kumar Monu
      02-06-2020 20:12:25

    • Very interesting

      Commented by :Atul Kumar Singh
      02-06-2020 20:09:22

    • Shaandar, jabardast line

      Commented by :Mazhar
      02-06-2020 20:00:45

    • Thanks God kahani achhi mod par hai

      Commented by :Sateesh ????
      02-06-2020 19:47:31

    • Nice story ma'am Waiting Next part

      Commented by :Bhimlal Mahto
      02-06-2020 19:47:27

    • Bahut jabarjast

      Commented by :Subrata Kumar mahato
      02-06-2020 19:43:24

    • Superb se uper....

      Commented by :LAL KRISHNA LAL
      02-06-2020 19:42:52

    • Top history

      Commented by :Roshan Kumar Mahto
      02-06-2020 19:41:44

    • Nice

      Commented by :Pritesh Kumar Singh
      02-06-2020 19:37:54

    • Nice poem

      Commented by :Shambhu Kumar
      02-06-2020 19:36:53

    • Superb story.

      Commented by :Divya
      02-06-2020 19:34:24

    • Superb Story

      Commented by :Gurmej Singh
      02-06-2020 19:26:49

    • Superb ...

      Commented by :Vaibhav Raj Singh
      02-06-2020 19:19:46

    • Good story

      Commented by :Shyam Shankar shukla
      02-06-2020 19:12:24

    • Superb story.

      Commented by :Brijesh Patel
      02-06-2020 19:10:26

    • Excellent

      Commented by :Ashvinee Singh
      02-06-2020 19:06:22

    • Nice

      Commented by :Mohammed Razaullah
      02-06-2020 19:02:54

    • Nice

      Commented by :P.k.patel
      02-06-2020 18:49:37

    • Nice

      Commented by :Akash kumar
      02-06-2020 18:42:18

    • Nice one

      Commented by :Arpit Pandey
      02-06-2020 18:42:04

    • Very interesting story please continue

      Commented by :Vijay Mehta
      02-06-2020 18:41:28

    • Nice...

      Commented by :Nidhi Azad
      02-06-2020 18:35:16

    • Interesting

      Commented by :Ajay Kumar Azad
      02-06-2020 18:27:26

    • Really interesting....

      Commented by :Umakant
      02-06-2020 18:22:30

    • Eagerly waiting for last two parts.......

      Commented by :Saurav kumar
      02-06-2020 18:19:10

    • interesting

      Commented by :Vishal Rajak
      02-06-2020 18:16:38

    • Ok

      Commented by :Manish Ranjan
      02-06-2020 18:16:36

    • Nice

      Commented by :Ajit Shivhare
      02-06-2020 18:16:13

    • Interesting

      Commented by :Ajay Kumar
      02-06-2020 18:15:00

    • Nice

      Commented by :Shailesh Kumar Gaund
      02-06-2020 18:14:21

    • Good

      Commented by :Akhilesh
      02-06-2020 18:12:01

    • Nice

      Commented by :Pankaj mishra
      02-06-2020 18:10:58

    • Commented by :Deepak Bharti
      02-06-2020 18:02:01

    • Nice story

      Commented by :Amit Kumar
      02-06-2020 18:01:03

    • Nice story

      Commented by :Faish Uddin
      02-06-2020 18:00:18

    • Interesting story

      Commented by :Nasir Hussain
      02-06-2020 17:58:47

    • Very nice story

      Commented by :Sirajuddin Ansari
      02-06-2020 17:57:30

    • Interesting story.. still suspense..

      Commented by :Kamlesh Asrekar
      02-06-2020 17:56:29

    • Nice story

      Commented by :Mohit Kumar
      02-06-2020 17:52:56

    • Nice story

      Commented by :Yogendra pal
      02-06-2020 17:46:51

    • Very nice story

      Commented by :uday Parte
      02-06-2020 17:46:44

    • Awesome story..

      Commented by :Sameer Siddiquee Almora
      02-06-2020 17:46:43

    • Very nice story

      Commented by :Vartika Mishra
      02-06-2020 17:44:43

    • Awesome

      Commented by :Yogesh Srivastava
      02-06-2020 17:42:30

    • Very nice story

      Commented by :Sanjeet
      02-06-2020 17:40:04

    • Very very nice story

      Commented by :Priyanshu kumar Priyadarshi
      02-06-2020 17:38:51

    • Very nice Story

      Commented by :Mohammad Shaban
      02-06-2020 17:37:26

    • Amazing story I like very much

      Commented by :Satyam Dwivedi
      02-06-2020 17:36:51

    • Nice..

      Commented by :SHRINIVAS
      02-06-2020 17:35:18

    • Nice story

      Commented by :Harendra Singh
      02-06-2020 17:35:08

    • Nice line

      Commented by :Dharmendra kumar
      02-06-2020 17:34:40

    • Nice story

      Commented by :Mrityunjay Shukla
      02-06-2020 17:34:37

    • Nice story

      Commented by :Bal Gangadhar Tilak
      02-06-2020 17:33:45

    • Nice Story

      Commented by :Pawan Tiwari
      02-06-2020 17:33:04

    • Very good

      Commented by :Vinay tiwari
      02-06-2020 17:31:55

    • Nice line

      Commented by :Rinku ansari
      02-06-2020 17:31:12

    • Bahut khoob

      Commented by :Vikash Kumar sinha
      02-06-2020 17:30:49

    • heart touching

      Commented by :arif ahamad
      02-06-2020 17:30:33

    • Interesting part...... Nice

      Commented by :Satish dubey
      02-06-2020 17:30:31

    • Nice

      Commented by :Shahzad Ahmad
      02-06-2020 17:30:15

    • कहानी में बहुत आनन्द आ रहा है

      Commented by :Manoj Kumar
      02-06-2020 17:30:06

    • Nice

      Commented by :Naresh Kumar Yadav
      02-06-2020 17:28:52

    • nice

      Commented by :Govind lal
      02-06-2020 17:28:49

    • Nice line

      Commented by :Sushil Kumar Gautam
      02-06-2020 17:28:30

    • NICE

      Commented by :Rohit gautam
      02-06-2020 17:28:00

    • NICE

      Commented by :Rohit gautam
      02-06-2020 17:27:59

    • Interesting wating for next part

      Commented by :RIZWAN KHAN
      02-06-2020 17:21:48

    • Total 11 parts....Hmmm...

      Commented by :Gaurav Kumar
      02-06-2020 17:19:21

    • Nice

      Commented by :Sant Vijay Yadav
      02-06-2020 17:16:36

    • Interesting

      Commented by :Kalpana Verma
      02-06-2020 17:05:37

    • Load More

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story