कविता - सीमा के हालात

Medhaj News 4 Jul 20 , 13:14:02 Special Story Viewed : 4869 Times
indian_army.jpg

नये युद्ध के मेघ छाने लगे हैं।

पड़ोसी गलत हक जताने लगे हैं।।


कभी पाक या चीन है घात करते।

कई मोरचे वो सजाने लगे हैं।।


शराफत नहीं त्यागते थे हम कभी भी

मगर बाहुबल हम दिखाने लगे हैं।


नहीं अब सहेंगे गुस्ताखियों को।

दिखाया जो' दम तिलमिलाने लगे हैं।।


अगर लाँघता हद तनिक शत्रु अब तो।

उन्हें धूल भी हम चटाने लगे हैं।।


भुला ज़िंदगी की सभी उलझनों को।

नया जोश सब में जगाने लगे हैं।।


जरूरत बड़ी हिंद में एकता की।

तिरंगा पुनः हम उठाने लगे हैं।।



-----प्रवीण त्रिपाठी(नोएडा)-----



मेरी पिछली कविता पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें----> संपूर्ण रथयात्रा



 


    36
    0

    Comments

    • Beautiful lines

      Commented by :Bhawana Maurya
      05-07-2020 21:38:45

    • कवि के सच्चे भावों को व्यक्त करती सम्वेदनशील, समसामयिक कविता !

      Commented by :Rita Kaushal
      05-07-2020 08:13:58

    • कवि के सच्चे भावों को व्यक्त करती सम्वेदनशील, समसामयिक कविता !

      Commented by :???? ????
      05-07-2020 08:10:52

    • Good one.

      Commented by :Mithilesh Kumar Singh
      05-07-2020 05:55:37

    • Nice

      Commented by :Nidhi Azad
      04-07-2020 19:07:44

    • Nice poem

      Commented by :Ajay Kumar Azad
      04-07-2020 18:04:45

    • Very Nice poem Jay Hind

      Commented by :Vikas Yadav
      04-07-2020 17:42:06

    • Nice poem.

      Commented by :Atul Kumar Singh
      04-07-2020 15:50:29

    • Nice lines

      Commented by :Sirajuddin Ansari
      04-07-2020 15:49:16

    • Very nice lines

      Commented by :Md Nazir
      04-07-2020 15:34:47

    • nice

      Commented by :Sushil Kumar Gautam
      04-07-2020 14:54:29

    • Nice line

      Commented by :Shailesh Kumar Gaund
      04-07-2020 13:57:51

    • Nice line

      Commented by :Amit Kumar
      04-07-2020 13:52:52

    • Nice lines

      Commented by :G.N.Tripathi
      04-07-2020 13:51:51

    • Nice lines

      Commented by :Akhilesh Mishra
      04-07-2020 13:47:20

    • Jai Hind

      Commented by :Rajnish Singh
      04-07-2020 13:46:37

    • Excellent

      Commented by :BHUPENDRA MAHAYACH
      04-07-2020 13:39:22

    • Nice lines, very relevant..

      Commented by :Rajeev Kumar
      04-07-2020 13:37:42

    • Super poem

      Commented by :Sameer Siddiquee Almora
      04-07-2020 13:34:37

    • Load More

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story