ICC ने U19 वर्ल्ड कप में लड़ाई करने वाले 3 बांग्लादेशी और 2 भारतीय खिलाड़ियों को दी सजा

Medhaj News 11 Feb 20 , 12:01:08 Sports Viewed : 344 Times
icc.jpg

रविवार 9 फरवरी को पोचेस्ट्रॉम में भारत और बांग्लादेश की युवा टीमों के बीच आइसीसी अंडर 19 विश्व कप 2020 का फाइनल मुकाबला खेला गया, जिसे बांग्लादेश ने जीता। हालांकि, मैच के दौरान और मैच के बाद में भारत और बांग्लादेश के खिलाड़ियों में बहस हो गई। दोनों देशों के खिलाड़ियों में बात धक्का-मुक्की तक पहुंच गई थी।

इसी के चलते इस जेंटलमैन गेम की मर्यादा बनाए रखने के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी आइसीसी ने अंडर 19 वर्ल्ड कप के फाइनल में विवाद पैदा करने वाले खिलाड़ियों को खोज निकाला है। आइसीसी ने विश्व कप फाइनल में माहौल खराब करने के लिए 5 खिलाड़ियों को दोषी पाया है, जिनमें 3 बांग्लादेशी खिलाड़ी हैं, जबकि 2 भारतीय खिलाड़ी का नाम भी शामिल हैं। इन पांचों खिलाड़ियों को आइसीसी ने सजा दी है।

जिन पांच खिलाड़ियों को आइसीसी ने दोषी पाया है उनमें बांग्लादेश के खिलाड़ी मोहम्मद तौहविद ह्रदोय, शमीम हुसैन और रकिबुल हनस का नाम शामिल है। वहीं, भारतीय खिलाड़ियों में नाम वर्ल्ड कप में अच्छा प्रदर्शन करने वाले और आइसीसी की वर्ल्ड कप टीम में चुने गए रवि बिश्नोई और आकाश सिंह का नाम शामिल है।





किस खिलाड़ी को मिली कितनी सजा

बांग्लादेश को तौहीद को Article 2.21 तोड़ने का दोषी पाया है और उन्हें 10 suspension प्वाइंट्स मिले हैं, जो 6 डेमेरिट प्वाइंट के बराबर हैं। ये प्वाइंट उनके खाते में अगले दो साल के लिए जुड़ गए हैं। ह्रदोय अपनी देश के लिए अगले 10 वनडे और टी20 इंटरनेशनल मैच न तो सीनियर टीम के लिए और न ही जूनियर टीम के लिए खेल पाएंगे।

बांग्लादेश के ही दूसरे खिलाड़ी शमीम हुसैन ने भी अपनी सजा कबूल कर ली है कि उन्होंने Article 2.21 को तोड़ा है। इनको आइसीसी ने 8 सस्पेंशन प्वाइंट दिए हैं जो 6 डेमेरिट प्वाइंट्स के बराबर हैं। हुसैन भी अपने देश की किसी टीम के लिए 6 टी20 और वनडे मैच नहीं खेल पाएंगे। वहीं, रकिबुल हसन को भी इसी आर्टिकल के तहत दोषी पाया गया है, जिन्हें 4 सस्पेंशन प्वाइंट्स मिले हैं जो 5 डेमेरिट प्वाइंट के बराबर हैं।





उधर, भारतीय टीम के तेज गेंदबाज आका शिंह को Article 2.21 को तोड़ने का दोषी पाया गया है और उनके खाते में आइसीसी ने अगले दो साल के लिए 8 सस्पेंशन प्वाइंट जोड़ दिए हैं जो 6 डेमेरिट प्वाइंट्स के बराबर हैं।

इसके अलावा रवि बिश्नोई को आइसीसी के कोड ऑफ कंडक्ट के 2.5 आर्टिकल को तोड़ने के लेवल 1 का दोषी पाया गया है, जिसमें उन्होंने मैच के दौरान विपक्षी खिलाड़ियों के लिए अभद्र भाषा का प्रयोग किया था। अविषेक दास को आउट करने के बाद उन्होंने गलत व्यवहार किया है। ऐसे में इसलिए उनको 2 डेमेरिट प्वाइंट मिले हैं। इस तरह उनको अगले 2 साल तक के लिए 7 डेमेरिट प्वाइंट मिल गए हैं।


    0
    0

    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story