advy_govt

भारत क्यों हारा Australia के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट मैच, जानिए वजह

Medhaj News 19 Dec 20 , 14:57:17 Sports Viewed : 1636 Times
aus.jpg

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया की टीम ने भारत को 8 विकेट से हरा दिया है। 90 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया की टीम ने जो बर्न्स (नॉटआउट 51) और मैथ्यू वेड (33) की पारियों के चलते 8 विकेट शेष रहते हुए इस मैच को अपने नाम कर लिया। चार मैचों की सीरीज में ऑस्ट्रेलिया ने अब 1-0 की बढ़त बना ली है। इससे पहले, दूसरी पारी में भारतीय बल्लेबाजों का प्रदर्शन निराशाजनक रहा और टीम 9 विकेट खोकर महज 36 रन ही बना सकी। मोहम्मद शमी चोटिल होने के चलते बल्लेबाजी नहीं कर सके। टेस्ट क्रिकेट में  एक पारी में यह भारत का अबतक का सबसे कम स्कोर है। आइए एक नजर डालते हैं कोहली एंड कंपनी को मिली इस शर्मनाक हार की पांच बड़ी वजहों पर..

एडिलेड टेस्ट मैच से पहले हर कोई यह मानकर चल रहा था कि इस डे-नाइट मुकाबले में मयंक अग्रवाल का साथ देने केएल राहुल या शुभमन गिल में से कोई एक मैदान पर उतरेगा। कई दिग्गज खिलाड़ियों ने शुभमन गिल को सही विकल्प भी बताया था, लेकिन कप्तान विराट कोहली ने आउट ऑफ फॉर्म चल रहे पृ्थ्वी शॉ पर भरोसा जताया और उनको सलामी बल्लेबाज के तौर पर मौका दिया। शॉ कप्तान के फैसले को सही साबित नहीं कर सके और पहली पारी में 0 और दूसरी पारी में सिर्फ 4 रन ही बना सके। 

पृथ्वी शॉ के दोनों ही पारियों में जल्दी आउट होने के बाद मयंक अग्रवाल भी बल्ले से कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर सके। मयंक ने पहली पारी में 17 और दूसरी में 9 रन बनाए। ओपनर के फ्लॉप होने के बाद पहली पारी में चेतेश्वर पुजारा ने 43 रनों की पारी जरूर खेली, लेकिन दूसरी इनिंग में वह अपना खाता तक नहीं खोल सके। भरोसेमंद पुजारा के आउट होने के भारत के मिडिल ऑर्डर पर अधिक दबाव पड़ा और पूरी बल्लेबाजी क्रम ताश के पत्तों की तरह बिखर गया। 

पहली पारी में विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे के बीच खराब तालमेल के चलते कोहली को अपने विकेट रनआउट के रूप में गंवाना पड़ा था, जो कि इस मैच का सबसे बड़ा टर्निंग पॉइंट था। कोहली और रहाणे चौथे विकेट के लिए 88 रन जोड़ चुके थे और इन दोनों के क्रीज पर होने से भारत की टीम पहली पारी में 350 के आसपास का स्कोर देख रही थी, लेकिन रहाणे की गलती के चलते विराट के आउट होने के बाद मैच पूरी तरह से पलट गया। विराट जब आउट हुए तो टीम इंडिया का स्कोर 188 रन था और इसके बाद टीम ने अपने अगले छह विकेट महज 56 रन पर गंवा दिए।

भारत के मिडिल ऑर्डर की पोल दोनों ही पारियों में खुलकर सामने आई। पहली इनिंग में विराट कोहली के आउट होने के बाद कोई भी बल्लेबाज प्रेशर की स्थिति में टिककर खेलने में नाकाम रहे, जबकि दूसरी पारी में भी यही कहानी रही। रहाणे कुछ हद तक टच में जरूर नजर आए, लेकिन अपने काबिलियत के अनुसार प्रदर्शन करने में नाकाम रहे। वहीं, हनुमा विहारी और ऋद्धिमान साहा ने भी दोनों ही पारियों में अपने प्रदर्शन से निराश किया।

एडिलेड टेस्ट मैच में भारत के प्लेइंग इलेवन पर कई पूर्व क्रिकेटरों ने सवाल खड़े किए थे। पृथ्वी शॉ को टीम में शामिल करना कप्तान कोहली की सबसे बड़ी गलती साबित हुई। वहीं, इन फॉर्म बल्लेबाज केएल राहुल को बाहर बैठना का फैसला भी समझ से परे रहा। हनुमा विहारी को पिछले टेस्ट रिकॉर्ड्स को देखते हुए प्लेइंग इलेवन में शामिल किया गया, लेकिन वह कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर सके।   


    3
    0

    Comments

    • Ok

      Commented by :Aslam
      19-12-2020 22:04:59

    • Ok

      Commented by :Sushil Kumar Gautam
      19-12-2020 17:48:32

    • Ok

      Commented by :Md shahnawaz
      19-12-2020 16:40:55

    • हार-जीत खेल का एक हिस्सा है। शर्मनाक हार की पांच बड़ी वजहों पर. राई का पहाड़ बनाने से कोई फायदा नहीं है। अगर शर्म ज्यादा है तो भारत आ जाये।

      Commented by :Sirajuddin Ansari
      19-12-2020 15:18:09

    • Load More

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    advt_govt

    Trends

    Special Story