राज्य

दलाल और माफिया एक थाली के चट्टे बट्टे: कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर

लखनऊ: सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर (Omprakash Rajbhar) ने मंगलवार को बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद राजनीतिक गलियारे में हलचल मची हुई है। इसी बीच वाराणसी में एक प्रेस कांफ्रेंस कर कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर ने इस मुलाकात पर प्रश्न उठाते हुए ओमप्रकाश राजभर को जहां असलम राजभर के नाम से संबोधित किया वहीँ उन्हें माफियाओं और समाजवादी पार्टी का एजेंट बता डाला और कहा कि ओमप्रकाश उर्फ असलम राजभर मुख्तार और सपा की राजनीतिक दलाली कर रहे हैं। 
वहीं उन्होंने कहा कि नवंबर के अंतिम सप्ताह या दिसंबर के प्रथम सप्ताह में मऊ की ऐतिहासिक धरती पर पर्दाफाश महारैली आयोजित की जायेगी जिसमे पूरे देश और प्रदेश से राजभर समुदाय के लोग उपस्थित होंगे। इसी रैली में सुभासपा मुखिया सारी करगुजारी जनता को बतलाएंगे। उनका बयान उस तरफ था, जब पूर्व में एक मंच से ओमप्रकाश राजभर ने कहा था ‘जो सपा को वोट देगा वो अपनी मां बहन के साथ विश्वासघात करेगा’।
गुंडे और माफियाओं के संसाधन से हुई मऊ में सपा-सुभासपा की रैली 
कैबिनेट मिनिस्टर अनिल राजभर ने कहा कि पूर्वांचल के मऊ में एक रैली हुई थी कुछ दिन पहले। मैंने उसी दिन कहा था कि ये रैली गुंडे और माफियाओं के दम पर की गयी जिसे समाजवादी पार्टी ने प्रायोजित किया, जिसमे माफियाओं का संसाधन लगा। कल बांदा जेल में असलम राजभर जी की मुलाकात पूर्वांचल के माफिया के साथ हुई। ये बात इस बात प्रमाणित करती है कि किस तरह से गुंडे और माफियाओं के दम पर वहां रैली कर राजभर समाज को अपमानित किया गया। 
माफिया को देने गए थे हिसाब 
अनिल राजभर ने आगे कहा कि असलम राजभर जी कल माफिया से मिलने क्योंकि जब माफियों के संसाधन का उपयोग करेंगे तो हिसाब किताब देने तो जाना ही होगा। उन्होंने आगे कहा कि ये कभी पिछड़ों के गले का हार बनने की कोशिश करते हैं और एक तरफ मुख़्तार अंसारी जैसे माफिया का राजनीतिक दलाल की भूमिका निभाते हैं। ऐसे लोग कभी समाज का भला नहीं कर सकते। कभी महापुरुषों का सम्मान नहीं कर सकते। ऐसे लोग अपनी राजनीति की रोटी सेकने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। 
मुख्तार को विधायक बनाने की साजिश 
अनिल राजभर ने आरोप लगाते हुए कहा कि हर बार की तरह इस बार भी कैसे मुख्तार अंसारी जीत जाएं उसका तानाबाना समाजवादी पार्टी रच रही है। इसमें ओमप्रकाश राजभर उर्फ़ असलम राजभर को आगे करके मुख्तार अंसारी को विधायक बनाने की साजिश की जा रही है। इस तरह की बातों को समाज को जानना चाहिए। 
मुख्तार अंसारी की कर रहे हैं दलाली 
उन्होंने कहा कि ओमप्रकाश राजभर ने कल हमारे प्रदेश अध्यक्ष और उप मुख्यमंत्री पर लोडर की भूमिका अदा करने का आरोप लगाया। वही कहा करते हैं एक लोडर होता है और एक लीडर होता है। उन्होंने कहा कि आज ये मुख़्तार अंसारी की राजनीति की दलाली करते-करते ये डीलर बन गए। अब ये एजेंटी कर रहे हैं यही इनका काम रह गया है। 
होगी पर्दाफाश महारैली और होगा दलालों का पर्दाफाश
अनिल राजभर ने कहा कि गरीब समाज ने जिस विश्वास जिस सपने के साथ इन्हे आगे बढ़ाया था। गरीबों के सपने का सौदा कर वो सिर्फ अपना और अपने परिवार के लिए राजनीति कर रहे हैं और समाजवादी पार्टी के जाल में फस कर माफियों की राजनीति की दलाली कर रहे हैं।  ऐसे लोगों को बेनकाब करने के लिए नवम्बर के आखरी सप्ताह में या दिसंबर के प्रथम सप्ताह में पूरे प्रदेश एक राजभर परिवार लामबंद होने जा रहा है। ऐसे लोगों को संदेश देने के लिए की समाज अब किसी को बेचने नहीं देगा, जो लोग सईद सालार मसूद  के अनुयायियों से मिलकर अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए गठबंधन कर रहे हैं उनका हश्र आने आने वाले दिन में बहुत बुरा होगा और उन्हें बेनाकाब करने के लिए हम पर्दाफ़ाश महारैली करेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button