दो कुत्तों की बातें हंसा-हंसाकर कर देगी आपको लोटपोट, पढ़िए मेजदार जोक्स

अखबार में अपनी बहादुरी की फोटो देख दो कुत्ते आपस में बात कर रहे थे…
पहला कुत्ता- यार, तुमने कैसे कर दिया, ये सब…
दूसरा कुत्ता- बस, उपरवाले की कृपा थी। फेमश होना था और हो गया।
पहला कुत्ता- ये कब की बात है ?
दूसरा कुत्ता- 4 बजे सुबह की…
पहला कुत्ता- तुम, उस वक्त क्या कर रहे थे।
दूसरा कुत्ता- अब साले, एक तो तू रिपोर्टर नहीं है, जो इतने सवाल पूछ रहा है।
दूसरा, मैं इंसान नहीं हूं, जो रात भर मोबाइल यूज करूं
सो रहा था आराम से…

………………………………………………………………………………….

टीचर- तुम इतनी देर से स्कूल क्यों आए हो?
बच्चा- मम्मी-पापा लड़ रहे थे।
टीचर- वो लड़ रहे थे तो तुम क्यों देर से आए?
बच्चा- मेरा एक जूता पापा के पास तो एक मम्मी के पास था।

………………………………………………………………………………….

पप्पू के घर रिश्तेदार आए।
रिश्तेदार – बेटा आगे जिंदगी में क्या करोगे?
पप्पू – कुछ भी करुंगा लेकिन किसी के घर जाकर, उनके बच्चों से ऐसे सवाल नहीं करुंगा…
पप्पू की बात सुनकर रिश्तेदार हैरान रह गया।

………………………………………………………………………………….

पत्नी – मैं आपसे बात नहीं करूंगी
पति – ठीक है
पत्नी – क्या आप कारण नहीं जानना चाहते?
पति – नहीं, मैं तुम्हारे फैसले की इज्जत करता हूं।

………………………………………………………………………………….

बब्लू- डेटॉल साबुन है?
दुकानदार- हां…
बब्लू- अच्छा वाला?
दुकानदार- हां भाई अच्छा वाला ही है…
बब्लू- अच्छी क्वालिटी का है न…?
दुकानदार- हां भाई हां
बब्लू- ठीक है फिर…उससे हाथ धोकर 1 किलो बेसन दे दो।

………………………………………………………………………………….

टीचर- 10 नंबर के एक प्रश्न का जवाब दो।
स्टूडेंट- सर प्रश्न पूछो
टीचर- बताओ सबसे ज्यादा नकल कहां होती है..?
स्टूडेंट- सर, व्हाट्स एप पर
टीचर- शाबाश, लो 10 में 10 नंबर

………………………………………………………………………………….

पिंटू- यार तुम स्कूल क्यों नहीं जाते हो?
चिंटू- अरे भाई जाता तो हूं लेकिन वहां से मुझे मार के बाहर फेंक देते हैं।
पिंटू- ऐसा क्यों भाई? कौन से स्कूल जाते हो?
चिंटू- कन्या विद्यालय!!

………………………………………………………………………………….

ट्रेन के डिब्बे में लिखा हुआ था, ‘बिना टिकट यात्रा करने वाले यात्री होशियार।
उसी ट्रेन में बंटू भी जा रहा था।
उसने ये लाइन पढ़ी और बोला: वाह, जो टिकट न खरीदें वो होशियार
हमने जो खरीद के रखी है तो हम बेवकूफ हैं क्या?

…………………………………………………………………………………. AP

Exit mobile version