भारतबिहारराज्यविज्ञान और तकनीक

पावरग्रिड के सबस्टेशन विस्तार से रौशन हुआ बिहार के लखीसराय का भविष्य

बिहार के लखीसराय में पावरग्रिड के सबस्टेशन के विस्तार की आधारशिला रखने का आगामी समारोह, इस क्षेत्र के लिए उन्नत बिजली बुनियादी ढांचे और उपलब्धता के एक नए युग की शुरुआत करने के लिए तैयार है। केंद्रीय ऊर्जा और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री श्री आरके सिंह के नेतृत्व में यह महत्वाकांक्षी प्रयास, क्षेत्र के विकास पथ में एक महत्वपूर्ण क्षण का प्रतीक है।

इस परियोजना में मौजूदा सबस्टेशन परिसर की सीमा के भीतर एक अत्याधुनिक 220 केवी गैस इंसुलेटेड स्विचगियर (जीआईएस) सबस्टेशन की स्थापना शामिल है। इस बुनियादी ढांचे के उन्नयन के कार्यान्वयन में दो दुर्जेय 500 एमवीए ट्रांसफार्मर की स्थापना होगी। आवंटित बजट लगभग रु. 400 करोड़ रुपये क्षेत्र के ऊर्जा परिदृश्य को मजबूत करने के लिए किए जा रहे पर्याप्त निवेश को रेखांकित करता है।

पूरा होने की अनुमानित समय-सीमा, जो दो वर्षों में फैली हुई है, इसमें शामिल सावधानीपूर्वक योजना और निष्पादन को रेखांकित करती है। एहसास होने पर, विस्तारित सबस्टेशन बहुआयामी लाभ देने के लिए तैयार है। इनमें सबसे प्रमुख है लखीसराय, शेखपुरा, मुंगेर और जमुई जिलों में बिजली की उपलब्धता में उल्लेखनीय सुधार। यह, बदले में, इन जीवंत स्थानों की बढ़ती ऊर्जा आवश्यकताओं को कुशलतापूर्वक संबोधित करने के लिए तैयार है।

इस विस्तार को रेखांकित करने वाली नवोन्मेषी जीआईएस तकनीक क्षेत्र और राष्ट्रीय ग्रिड के बीच बेहतर कनेक्टिविटी की शुरुआत करने वाली है। परिणामी समामेलन उद्योगों को आकर्षित करने, औद्योगिक विस्तार को बढ़ावा देने और रोजगार सृजन को बढ़ावा देकर आर्थिक जीवन शक्ति को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ाने के लिए तैयार है। इसके अलावा, यह उत्प्रेरक विकास निवासियों के जीवन स्तर और जीवन की समग्र गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए तैयार है, जो विश्वसनीय बिजली के व्यापक लाभों का उदाहरण है।

संक्षेप में, आसन्न शिलान्यास समारोह टिकाऊ और दूरदर्शी ऊर्जा बुनियादी ढांचे के माध्यम से क्षेत्र को सशक्त बनाने के लिए सरकार की एक गंभीर प्रतिबद्धता का प्रतीक है। जैसे-जैसे परियोजना आगे बढ़ती है, यह न केवल अनगिनत घरों को रोशन करने का वादा करती है, बल्कि विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति को भी प्रेरित करती है, जिससे क्षेत्र को और अधिक विद्युतीकरण वाले भविष्य की ओर प्रेरित किया जाता है।

read more… ऊँची चोटी पर स्थित मराठा किला

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button