राज्यउत्तर प्रदेश / यूपी

राष्ट्रीय व राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों के शीर्ष अधिकारियों ने की शिरकत

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण एवं उ0प्र0 राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के समन्वय से गुरूवार को प्रदेश के 41 जनपदों पीलीभीत, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, बहराइच, बाराबंकी, गोण्डा, अयोध्या, अम्बेडकरनगर, बस्ती, संत कबीर नगर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, देवरिया, कुशीनगर, गोरखपुर, सिद्धार्थनगर, बदायूं, फर्रूखाबाद, बिजनौर, बलरामपुर, श्रावस्ती, महाराजगंज, गाजीपुर, उन्नाव, बुलंदशहर, कासगंज, बरेली, मुरादाबाद, सहारनपुर, हमीरपुर, शामली, गौतमबुद्ध नगर, रामपुर, हरदोई, अलीगढ़, प्रयागराज, वाराणसी, मैनपुरी, शाहजहांपुर एवं लखनऊ में बाढ़ आपदा पर राज्य स्तरीय मॉक एक्सरसाइज आयोजित किया गया।

मॉक एक्सरसाइज की अध्यक्षता उ0प्र0 राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष ले0ज0 रविन्द्र प्रताप शाही एवीएसएम द्वारा किया गया। वहीं राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, नई दिल्ली से आये कर्नल कीर्ति प्रताप सिंह, सलाहकार (ऑपरेशन) एवं कर्नल नदीप अरशद (से0नि0) द्वारा अभ्यास का समन्वय किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ प्राधिकरण के वरिष्ठ सलाहकार ब्रिगेडियर प्रमोद कुमार सिंह ने किया।

कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित अनूप प्रधान बाल्मीकी, राज्यमंत्री, राजस्व विभाग, उ0प्र0 ने कहा कि राज्य स्तरीय मॉक एक्सरसाइज का उद्देश्य किसी भी आपदा से निबटने हेतु सरकारी मशीनरी के उपयोग व जन जागरूकता बढ़ाना है। उन्होंने श्री जी0एस0 नवीन कुमार, सचिव राजस्व एवं राहत आयुक्त व राज्य प्राधिकरण के उपाध्यक्ष के साथ लखनऊ में सभी विभागों के स्टॉल, कमान्ड पोस्ट तथा राहत शिविर का भ्रमण किया एवं आपदा मित्रों के साथ बाढ़ आपदा में उनके द्वारा किये जा रहे कार्यों के बारे में चर्चा किया।

वहीं, राहत आयुक्त जी0एस0 नवीन कुमार ने बताया कि बाढ़ आपदा पर राज्य स्तरीय मॉक एक्सरसाइज तीन चरणों में सम्पन्न कराया जाता है, जिसका तीसरा चरण आज मॉक एक्सरसाइज है। जिसमें प्रदेश के चिन्हित जनपद भारतीय सेना, भारतीय वायुसेना, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, पुलिस विभाग, अग्निशमन विभाग, पीएएस फ्लड यूनिट, सीआईएसएफ, कृषि विभाग, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग, सिंचाई एवं स्वास्थ्य, पंचायतीराज, खाद्य एवं रसद विभाग, परिवहन विभाग, ऊर्जा विभाग, नागरिक सुरक्षा विभाग, दूरसंचार विभाग, ग्राम्य विकास विभाग, पशुपालन, लोक निर्माण विभाग, आपदा मित्र के साथ अपने-अपने जनपद में राहत-बचाव के कार्य, राहत शिविर प्रबंधन, चिकित्सा शिविर प्रबंधन के साथ अन्य बिन्दुओं पर कार्यवाही एसओपी एवं इन्सीडेंट रिस्पांस सिस्टम के अनुसार किया गया।

राहत आयुक्त ने बताया कि मॉक एक्सरसाइज के अन्तर्गत सबसे पहले राज्य स्तरीय कन्ट्रोल रूम से सभी जनपदों को बाढ़ अलर्ट की सूचना दी गयी। उसके उपरान्त जनपदों में एसओपी एवं इन्सीडेंट रिस्पांस सिस्टम के अनुसार कार्यवाही शुरू किया गया। बताया कि प्राधिकरण में उपस्थित राज्य स्तरीय अधिकारियों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सजीव चित्रण देखा एवं उनके कार्यों की समीक्षा भी की। जनपद बरेली में भारतीय वायु सेना ने हेलीकाप्टर द्वारा खाद्य सामग्री वितरण एवं बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया। उसके उपरान्त प्राधिकरण के सभी सदस्यों ने लखनऊ में नागरिक सुरक्षा संस्थान, छठा मील, बख्शी का तालाब के पास आयोजित मॉक एक्सरसाइज के स्थल का निरीक्षण किया गया।

उक्त कार्यक्रम में राष्ट्रीय व राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों के शीर्ष अधिकारियों के अलावा जनपद लखनऊ के सम्बंधित अधिकारियों ने प्रतिभाग किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button