दुनियाअंतर्राष्ट्रीयदेश-विदेश

पाकिस्तान में मिला अरबों का खजाना

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में आटे की कमी के चलते हाहाकार मचा हुआ है। पाकिस्तान में पिछले कई  दिनों से आटे की किल्लत चल रही हैं। यहां बिजली की कीमत भी बढ़ रही है। महंगाई दर 25% हो चुकी है। पाकिस्तान में कुछ दिन पहले ही बिजली को लेकर हाहाकार मचा हुआ था। वहां पर दवाईओं की किल्लत हो गई थी। गैस सिलेंडर खरीदना मुश्किल हो गया है। इसी बीच पाकिस्तान में सरकार ने पेट्रोल-डीजल के दामों में भारी बढ़ोतरी की थी। पेट्रोल के दाम 26.02 पाकिस्तानी रुपए बढ़कर 331.38 रुपए हो गए है। वहीं हाई-स्पीड डीजल 17.34 रुपए बढ़कर 329.18 पाकिस्तानी रुपया हो गया है। पाकिस्तान में ऐसा पहली बार हुआ है, जब पेट्रोल-डीजल के दाम 330 रुपए/लीटर तक पहुंचे हैं।

अब खबर आ रही है कि पाकिस्तान के दो शहरों में अरबों रुपए की लोकल और फॉरेन करंसी बरामद किए जाने की खबर है। ‘द डॉन’ अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक- रावलपिंडी में एक प्लाजा के बेसमेंट में इतनी करंसी मिली की फेडरल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (FIA) के अफसर हैरान रह गए। इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस बेसमेंट में 13 डिजिटल लॉकर मिले हैं। 24 घंटे से इन्हें खोलने की कोशिश अब तक नाकाम रही है। इसके अलावा झेलम शहर में भी इसी तरह का बेसमेंट और लॉकर मिले हैं। माना जा रहा है कि बरामद करंसी के अलावा लॉकर्स में भी फॉरेन करंसी है। पाकिस्तान के पास इस वक्त कुल 8 अरब डॉलर का फॉरेक्स रिजर्व (विदेशी मुद्रा भंडार) है। इनमें 3 अरब डॉलर IMF, 2 अरब डॉलर सऊदी अरब और एक-एक अरब डॉलर UAE और चीन के हैं। जून में महंगाई दर करीब 40% थी। इसके बाद सरकार ने आंकड़े जारी ही नहीं किए।

FIA की कई टीमें दो हफ्ते से फॉरेन करंसी होल्डर्स और मनी लॉन्ड्रिंग के खिलाफ ऑपरेशन चला रही हैं। इसमें फौज और ISI भी मदद कर रही है। जांच एजेंसियों को पाकिस्तानी फौज के रावलपिंडी हेडक्वॉर्टर से 2 किलोमीटर दूर एक प्लाजा में करंसी छिपाने की जानकारी मिली थी। रविवार सुबह इस प्लाजा के बेसमेंट पर छापा मारा गया। 44 अफसरों की टीम को तलाशी के दौरान कुछ नहीं मिला। इसी दौरान दो अफसरों के बेसमेंट की एक दीवार पर शक हुआ। जांच के दौरान पता लगा कि दीवार के दूसरी तरफ कोई कंस्ट्रक्शन नहीं है। बाद में इस दीवार को तोड़ा गया।

read more… अंजू वापस आ रही है या पाकिस्तान में उसके साथ गलत हुआ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button