दुनियारूस यूक्रेन युद्ध

यूक्रेन ने अमेरिका से फिर लगाई गुहार

रूस और यूक्रेन के जंग के बीच अभी कल ही पोलैंड ने यूक्रेन को झटका दिया था अब खबर आ रही है कि अमेरिका भी अपने हाथ पीछे खीचने वाला है। यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की जंग शुरू होने के बाद दूसरी बार अमेरिका पहुंचे है। यहां उन्होंने राष्ट्रपति बाइडेन से मुलाकात की है। इस बीच जेलेंस्की ने कहा है कि यूक्रेन के लिए अमेरिका की मदद बहुत जरूरी है। अमेरिका की डेमोक्रेटिक पार्टी के एक सांसद ने बताया- जेलेंस्की ने उनसे कहा है कि अगर हमें मदद नहीं मिलेगी तो हम जंग हार जाएंगे।

याद रहे कि यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की के दौरे के समय अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने घोषणा की है कि यूक्रेन को जंग के लिए अमेरिका 128 मिलियन डॉलर (1061 करोड़ रूपए) दे रहा है। इसके साथ ही अमेरिका का डिफेंस विभाग 198 मिलियन डॉलर (1642 करोड़ रूपए) के हथियार और इक्विपमेंट्स भी देगा। BBC के अनुसार अमेरिका ने अब तक पहले यूक्रेन को 110 अरब डॉलर यानी करीब 9 लाख 11 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की मदद की है जिसमें 43 अरब डॉलर के हथियार शामिल हैं।

जानकारी के लिए आपको बता दे कि यूक्रेन को दी जा रही लगातार मदद का अमेरिका में विपक्षी पार्टी रिपब्लिकन के सांसद विरोध कर रहे हैं। इनका कहना है कि इन पैसों को अमेरिका की बॉर्डर सिक्योरिटी पर खर्च करना ज्यादा बेहतर रहेगा। यूक्रेन में हो रहे भ्रष्टाचार से अमेरिका का पैसा बर्बाद हो सकता है। पैकेज की घोषणा के बाद जेलेंस्की ने अमेरिका को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा- हमारे सैनिकों को अभी इसी की जरूरत है। यह एक पावरफुल पैकेज है। उन सभी अमेरिकी लोगों को धन्यवाद जो इन मुश्किल 575 दिन से यूक्रेन और वहां के नागरिक के साथ खड़े हैं।

जानकारी के लिए आपको बता दे कि फरवरी 2022 में रूस के यूक्रेन पर हमले के बाद से ही अमेरिका यूक्रेन का समर्थन कर रहा है। अमेरिका समय-समय पर यूक्रेन को आर्थिक मदद देता रहा है। सितंबर की शुरुआत में अमेरिका ने यूक्रेन को डिप्लीटेड यूरेनियम से लैस गोला-बारूद भेजने की घोषणा की थी। इन्हें फायर करने के लिए अमेरिका यूक्रेन को अब्राम टैंक भी दे रहा है, जिसकी पहली डिलीवरी अगले हफ्ते होने की संभावना है। ये हथियार रूसी टैंकों को तबाह करने में सक्षम होंगे।

read more…. India-Canada Dispute : भारत से पंगा लेना जस्टिन ट्रूडो को पड़ा भारी, रिपोर्ट हुई जारी, मुश्किल में फंसे ट्रूडो, जानिए पूरा मामला

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button