महाराष्ट्रविशेष खबर

विनायक चतुर्थी 2023: भगवान गणेश के आशीर्वाद का महत्वपूर्ण त्योहार

विनायक चतुर्थी, भगवान गणेश के भक्तों द्वारा हर महीने मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण त्योहार है और हिंदू धर्म में इसका बहुत बड़ा धार्मिक महत्व है। यह व्रत अधिक मास श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है। यहां हम आपको इस त्योहार के महत्वपूर्ण विवरण और पूजा अनुष्ठान के बारे में बता रहे हैं।

विनायक चतुर्थी का महत्व

विनायक चतुर्थी का हिंदू धर्म में बड़ा धार्मिक महत्व है। इस दिन भगवान गणेश की पूजा भक्तों द्वारा भक्ति और समर्पण के साथ की जाती है। भगवान गणपति को प्रथम पूज्य माना जाता है और पूरे देश में उनकी पूजा की जाती है। विनायक चतुर्थी मुख्य रूप से महाराष्ट्र में मनाई जाती है और लोग भगवान गणेश को प्रसन्न करने के लिए इस शुभ दिन पर व्रत रखते हैं। इस व्रत के द्वारा लोग जीवन में समृद्धि, खुशहाली और धन की प्राप्ति की प्रार्थना करते हैं।

विनायक चतुर्थी पूजा अनुष्ठान

Ganesh uttsav in maharast by medhaj news

विनायक चतुर्थी के दिन भक्त भगवान गणेश की विशेष पूजा अनुष्ठान करते हैं। इस दिन की पूजा अधिक मांगलिक समय में की जाती है। इस साल, विनायक चतुर्थी पूजा का मुहूर्त दोपहर 12:30 बजे से 02:00 बजे तक है। पूजा अनुष्ठान की शुरुआत भगवान गणेश की मूर्ति को सजाकर होती है। पीले फूल, तिलक, कपड़े या पीले रंग के पटके से मूर्ति को अलंकृत किया जाता है। भगवान गणेश को मोदक, लड्डू या अन्य मिठाइयों की भेंट भी की जाती है। विशेष रूप से लोग भगवान गणेश के 108 नामों का उच्चारण करते हैं, जो भक्तों को सौभाग्य और सफलता प्रदान करते हैं।

विनायक चतुर्थी के रंग-बिरंगे त्यौहार

विनायक चतुर्थी भारत के विभिन्न भागों में धूमधाम से मनाई जाती है। इस दिन सभी लोग रंग-बिरंगे वेशभूषा में सजते हैं और मिठाईयों का भोजन करते हैं। खासकर, महाराष्ट्र में गणेश चतुर्थी विशेष रूप से धूमधाम से मनाई जाती है। लोग गणेश जी के विभिन्न रूपों की मूर्तियों को बनाकर अपने घरों और सार्वजनिक स्थानों में सजाते हैं। इस दिन को विशेष आयोजनों, भजन-कीर्तन और रंगारंग परेडों के साथ बड़े धूमधाम से मनाया जाता है।

विनायक चतुर्थी 2023 के उपलक्ष्य में, हम सभी लोग भगवान गणेश के आशीर्वाद से समृद्धि और सफलता की प्राप्ति की कामना करते हैं। इस शुभ अवसर पर हम आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं देते हैं।

Read more…जानिए धर्म क्या है?

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button