Breaking Newsविज्ञान और तकनीक

स्टाइलिश ‘कैट-आई’ चश्मे के पीछे छिपी यह महिला कौन है? आज का Google Doodle किसके लिए है?

इतिहास की महत्वपूर्ण हस्तियों को श्रद्धांजलि देने की Google की अपनी अनूठी शैली है। दुनिया की सबसे बड़ी इंटरनेट सर्च इंजन कंपनी किसी विशेष व्यक्ति या क्षण को याद करने के लिए अपने लोगो के स्थान पर विशेष डूडल कला बनाती है। आजकल, एक स्टाइलिश चश्मा वाली महिला उनके डूडल पर दिख रही है। इस चश्मे के पीछे छिपी इस महिला की पहचान को लेकर लोगों में उत्सुकता है। इस लेख में, हम आपको इस विषय में सभी जानकारी देंगे।

अल्टीना शिनासी – जीवनी

गूगल के डूडल में दिख रही महिला का नाम अल्टीना शिनासी है। आज अमेरिकी कलाकार, डिजाइनर और आविष्कारक अल्टीना शिनासी की 114वीं जयंती है। उनका जन्म 4 अगस्त, 1907 को मैनहट्टन, न्यूयॉर्क में हुआ था। उनके द्वारा डिज़ाइन किए गए ‘हार्लेक्विन’ चश्मों के फ्रेम ने उन्हें दुनिया भर में प्रसिद्धि दिलाई। उन्हें चश्मे के डिज़ाइन में अद्भुत कुशलता थी, और उनकी योग्यता चश्मों के डिज़ाइन में नई दिशा देने में मदद करती थी।

न्यूयॉर्क में पढ़ाई के बाद, वह पेंटिंग का अध्ययन करने के लिए पेरिस चली गईं। यहीं से कला जगत और डिजाइनिंग में उनका सफर शुरू हुआ। उन्होंने साल्वाडोर डाली और जॉर्ज ग्रॉज़ जैसे कई प्रसिद्ध कलाकारों के साथ काम किया है। उन्होंने कला और डिजाइनिंग के क्षेत्र में महान योगदान दिया। उनके डिज़ाइन की खासियत थी कि वे आसानी से नाक के ऊपर रखे जा सकते थे और वे एक नया फैशन ट्रेंड स्थापित कर सकते थे।

बिल्ली की आँख वाला फ्रेम – विकास

इस डिज़ाइन का विचार, जिसे वर्तमान में ‘कैट-आई’ फ़्रेम के नाम से जाना जाता है, इटली में अल्टीना को सुझाया गया था। हार्लेक्विन मास्क का उपयोग इटली के वेनिस शहर में आयोजित होने वाले कार्निवल में किया जाता है। इस मास्क से प्रेरणा लेते हुए अल्टीना ने हार्लेक्विन फ्रेम का पहला प्रोटोटाइप बनाया। वे चाहती थीं कि चश्मा का फ्रेम आंखों के निचे बिल्ली के आँख जैसा दिखे, जो एक अलग-अलग और रहस्यमयी भाव देता है।

उन्होंने जो पहला प्रोटोटाइप बनाया वह कागज़ का था। शुरुआत में कोई भी दुकानदार उनके डिजाइन के मुताबिक चश्मे का फ्रेम बनाने को तैयार नहीं था। लेकिन उनकी मेहनत और अद्भुत कला ने उन्हें सफलता दिलाई। आख़िरकार एक दुकानदार ने उन्हें मौका दिया और ये फ़्रेम तैयार हो गया।

महिलाओं के चश्मे में एक क्रांति

हार्लेक्विन चश्मे से पहले, महिलाओं के लिए अधिक फ्रेम विकल्प उपलब्ध नहीं थे। लेकिन अल्टीना शिनासी के डिज़ाइन के साथ यह स्थिति बदल गई। स्टाइलिश और अद्भुत डिज़ाइन के कारण इस फ्रेम ने तुरंत लोगों का ध्यान आकर्षित किया और उन्हें खुदरा और आकर्षक दिखाने में मदद की। इसलिए 1930 और 40 के दशक में यह फ्रेम दुनिया भर में लोकप्रिय हो गया। इस फ्रेम को बाद में कैट-आई फ्रेम के नाम से जाना जाने लगा। आज भी लाखों महिलाएं चश्मा खरीदते समय ऐसे फ्रेम पसंद करती हैं।

समाप्ति

अल्टीना शिनासी एक महान कलाकार और डिज़ाइनर थीं, जिनके द्वारा डिज़ाइन किए गए ‘हार्लेक्विन’ चश्मों के फ्रेम ने उन्हें विश्वस्तरीय पहचान दिलाई। आज, उनके डिज़ाइन विकसित होने की यात्रा एक अद्भुत कहानी है जो अभी भी महिलाओं के चश्मे के फ़ैशन में एक क्रांति के रूप में जानी जाती है। आजके गूगल डूडल के माध्यम से, हम उनके योगदान को सम्मानित करते हैं और उन्हें याद करते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

अल्टीना शिनासी किस चीज़ के लिए प्रसिद्ध हुईं थीं?
अल्टीना शिनासी गूगल डूडल में दिख रही महिला, हार्लेक्विन चश्मों के डिज़ाइन के लिए प्रसिद्ध हुईं थीं।

उनके डिज़ाइन की खासियत क्या थी?
उनके डिज़ाइन में चश्मे का फ्रेम आंखों के निचे बिल्ली के आँख जैसा दिखता था, जो आकर्षक और रहस्यमयी भाव देता था।

उन्होंने कहां से कला का अध्ययन किया था?
उन्होंने पेरिस में कला का अध्ययन किया था।

उनके डिज़ाइन ने महिलाओं के चश्मे के फैशन में कैसे बदलाव लाया?
उनके डिज़ाइन ने महिलाओं के चश्मे के फैशन में अद्भुत क्रांति लाई और स्टाइलिश फ्रेम्स को लोकप्रिय बनाया।

उनके जन्मदिन को गूगल क्यों मना रहा है?
गूगल उनके जन्मदिन को उनकी महानता को याद करने के लिए मना रहा है और डूडल के माध्यम से लोगों को उनके योगदान के बारे में बता रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button