राज्यउत्तर प्रदेश / यूपी

विश्व प्रसिद्ध बौद्ध स्थल कुशीनगर को 1941.40 लाख रूपये की धनराशि से किया जा रहा है विकसित-जयवीर सिंह

राज्य सरकार देशी विदेशी सैलानियों को कुशीनगर के प्राचीन मंदिरों, स्तूपों एवं बौद्ध बिहारों की ओर आकर्षित करने के लिए इसे संरक्षित कर रही है। इसे भारत का प्रमुख पर्यटक स्थल घोषित करके इसका विकास 1941.40 लाख रूपये की धनराशि से किया जा रहा है। इस धनराशि से घाटों का प्लेटफार्म, चेजिगरूम आदि के साथ मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए बुनियादी सुविधायें उपलब्ध कराने से संबंधित विकास कार्य कराये जा रहे हैं।

यह जानकारी प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह ने शुक्रवार को दी। उन्होंने बताया कि कुशीनगर बौद्ध श्रद्धालुओं के लिए प्रमुख केन्द्रों में से एक है। इस स्थान पर भगवान बुद्ध ने महापरिनिर्वाण प्राप्त किया था। इस प्राचीन स्थल को खोज करने का श्रेय जनरल ए कनिघंम एवं एशियाई कार्लल को जाता है। जिन्होंने 1861 में इस स्थल की खुदाई की थी। इसके बाद 1904 से 1912 के मध्य कुशीनगर में भारतीय पुरातत्व संरक्षण द्वारा कई उत्खनन कार्य कराये गये।

मंत्री जयवीर सिंह ने बताया कि कुशीनगर में भगवान बुद्ध से जुड़े इस स्थल को देखने के लिए पूरी दुनियाभर से पर्यटक एवं श्रद्धालु सालभर आते रहते हैं। यहां स्थित मंदिर में भगवान बुद्ध की 6.1 मीटर ऊंची मूर्ति लेटे हुए मुद्रा में रखी है। यह मूर्ति उस काल को दर्शाती है। जब भगवान बुद्ध 80 वर्ष की आयु में जन्म मृत्यु के बंधन से मुक्त हो गये थे। कुशीनगर में अन्य तीर्थस्थलों में कुशीनगर संग्रहालय, रामभार स्तूप, सूर्य मंदिर, श्रीलंका मंदिर, चीनी बौद्ध मंदिर, माथा कुंवर मंदिर आदि स्थित है। राज्य सरकार द्वारा यहां पर अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा भी बनाया जा रहा है।

Read more….पर्यटन, इन्फ्रास्ट्रक्चर, फार्मा सहित कई क्षेत्रों में यूपी और मैक्सिको के बीच हुआ एमओयू

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button