5G टेक्नोलॉजी से कोरोना फैलने की खबर पर WHO ने जारी की एडवाइजरी

Medhaj News 2 Jul 20 , 10:31:43 World Viewed : 1001 Times
5g.jpg

दुनिया में जैसे-जैसे कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ रहा है, तमाम तरह की साजिश वाली खबरें भी आने लगी हैं | ऐसी ही एक साजिश थ्योरी इंटरनेट की दुनिया में फैली कि कोरोना वायरस के प्रसार में 5जी टेक्नोलॉजी की भूमिका है | अब इस पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने एडवाइजरी जारी की है | गौरतलब है कि यह बात इस तेजी से फैली कि ब्रिटेन में वोडाफोन के एक 5G टावर पर किसी ने पेट्रोल बम तक फेंक दिया | ऑनलाइन दुनिया में इसको लेकर जमकर बहस, चर्चा होने लगी | इसकी वजह से विश्व स्वास्थ्य संगठन को आगे आना पड़ा | ब्रिटेन की टेलीकॉम कंपनियों ने एक संयुक्त बयान जारी कर ऐसे दावे को निराधार और नुकसान पहुंचाने के इरादे वाला बताया | WHO ने एक एडवाइजरी जारी कर यह स्पष्ट किया कि कोरोना वायरस रेडियो तरंगों या मोबाइल नेटवर्क से नहीं फैलता | WHO ने कहा कि कोरोना वायरस ऐसे कई देशों में फैला है जहां अभी तक 5जी नेटवर्क पहुंचा ही नहीं है |

असल में 3G और 4G की तुलना में 5G टेक्नोलॉजी के लिए काफी घने नेटवर्क की जरूरत होती है | इसकी वजह यह है कि इसमें जिस स्पेक्ट्रम बैंड मिड बैंड और मिलीमीटर वेव्स का इस्तेमाल किया जाता है उसमें उंची फ्रिक्वेंसी की तरंगे होती हैं जिनके कवरेज के लिए ज्यादा टावर और छोटे-छोटे सेल जैसे नेटवर्क की जरूरत होती है | य​दि किसी टेलीकॉम कंपनी ने मिलीमीटर वेव का इस्तेमाल किया तो उसे हर बेस स्टेशन पर ज्यादा एंटेना लगाने की जरूर होगी | कंसल्टेंसी फर्म अर्न्स्ट ऐंड यंग के मुताबिक 4G की तुलना में 5G में हर सेल में 5 से 10 गुना ज्यादा छोटे सेल की जरूरत होती है | तो ज्यादा टावर, एंटेना और छोटे-छोटे सेल का मतलब है कि लोगों का रेडियो तरंगों से संपर्क भी ज्यादा होगा | एक अनुमान के अनुसार दुनिया भर में इस समय करीब 125 टेलीकॉम कंपनियां व्यावसायिक रूप से 5G टेक्नोलॉजी शुरू कर चुकी हैं | इनमें से सबसे ज्यादा अमेरिका में हैं | 5G टेक्नोलॉजी का सेहत पर क्या असर होता है, इसको लेकर दुनिया में कई स्टडी की गई हैं | WHO और अमेरिका की नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडि​सीन की स्टडी में कहा गया कि इससे लोगों की सेहत को कोई नुकसान नहीं होता, लेकिन कई स्वतंत्र अध्ययन में वैज्ञानिकों ने सेहत पर इसके नुकसान का दावा किया है | गौरतलब है कि दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं, इसकी वजह से लोगों में डर बढ़ रहा है और तरह-तरह की अफवाहें भी |  दुनिया भर में कोरोना वायरस संक्रमण के 1 करोड़ से ज्यादा मामले हो चुके हैं जिनमें 5 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है |


    29
    0

    Comments

    • so sad

      Commented by :Amit maan
      03-07-2020 10:45:51

    • Sad

      Commented by :Ashish kumar nainital
      02-07-2020 23:01:15

    • Sad news

      Commented by :Aslam
      02-07-2020 20:49:16

    • So sad

      Commented by :Amit Kumar
      02-07-2020 18:21:36

    • Bad news

      Commented by :uday Parte
      02-07-2020 17:37:13

    • Bad news

      Commented by :Nidhi Azad
      02-07-2020 17:08:51

    • Sad news

      Commented by :Ajay Kumar Azad
      02-07-2020 17:03:27

    • Bad news

      Commented by :Arpit Pandey
      02-07-2020 16:58:03

    • Bad news

      Commented by :Pravesh Kumar Satyarthi
      02-07-2020 16:45:34

    • bad news

      Commented by :Sushil Kumar Gautam
      02-07-2020 13:20:25

    • So Sad

      Commented by :Vikas Yadav
      02-07-2020 13:18:46

    • bad news

      Commented by :vijai kumar
      02-07-2020 12:52:44

    • Ok

      Commented by :Sameer Siddiquee Almora
      02-07-2020 11:45:54

    • Bad news

      Commented by :Rishikesh kumar deo sitamarhi
      02-07-2020 11:33:44

    • Ooo

      Commented by :Amrit Kumar
      02-07-2020 11:30:21

    • Good, to wipe away Rumer and miss information.

      Commented by :Zain
      02-07-2020 11:03:19

    • Ok

      Commented by :Gaurav Lohani
      02-07-2020 10:46:49

    • so sad

      Commented by :Rohit gautam
      02-07-2020 10:36:41

    • Load More

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story