Headline


नेपाल भारत से झगड़ा कर चुका रहा है चीन के इस एहसान की कीमत?

Medhaj News 22 May 20,12:49:29 World
Xi_in_Nepal.jpg

गौर करने वाली बात यह है कि नेपाल ने ऐसे वक्त पर सीमा विवाद को हवा दी, जब भारत और चीन की सेना लद्दाख में आमने-सामने हैं. इससे कहीं न कहीं यह संदेश जाता है कि काठमांडू में होने वाले फैसलों में चीन का दखल काफी बढ़ गया है और यदि नेपाल के पिछले राजनीतिक संकट पर ध्यान दें, तो चीन के साथ उसके गठजोड़ की आशंका को बल मिलता है। 

मई की शुरुआत में नेपाल में राजनीतिक संकट गहरा गया था और नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने सार्वजनिक रूप से प्रधानमंत्री के.पी शर्मा ओली (KP Sharma Oli ) के इस्तीफे की मांग शुरू कर दी थी। कहा जाता है कि इस संकट से बचने के लिए ओली ने चीन से मदद मांगी थी, और उसी मदद की कीमत वह भारत के साथ सीमा विवाद खड़े करके चुका रहे हैं। 

चीनी राजदूत होउ यानिकी (Hou Yanqi ) ने ओली की सरकार को बचाने के लिए कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ कई बैठकें कीं और संकट को हल किया, इसके बदले में उसने चीन को निशाना बनाने वाले एक अंतरराष्ट्रीय आंदोलन के खिलाफ नेपाल का समर्थन भी मांगा था। अधिकांश राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि भारत के साथ विवाद के पीछे नेपाल नहीं, बल्कि व्यक्तिगत रूप से ओली हैं। ओली ने पार्टी चेयरमैन और प्रेसिडेंट दोनों पदों पर कब्जा करने के लिए यूएमएल और एमसी की विलय प्रक्रिया में हेरफेर किया था। जबकि उन्होंने दूसरों के लिए एक व्यक्ति, एक पद के सिद्धांत को लागू किया, लेकिन खुद उस पर अमल नहीं किया। इस मुद्दे पर भी विपक्षी नेताओं ने काफी हंगामा मचाया था। के.पी शर्मा ओली ने नेपाल पर एकछत्र राज के लिए कई चालें चलीं। उन्होंने अपने करीबी विश्वासपात्र को राष्ट्रपति की कुर्सी पर बैठाया। जब माधव नेपाल और प्रचंड द्वारा पार्टी में उनके नेतृत्व का विरोध किया गया, तो ओली ने मदद के लिए चीनी राजदूत से संपर्क साधा।  जिसके बाद उन्होंने माधव नेपाल और प्रचंड पर दबाव बनाकर खुद को संकट से निकाला। यही वजह है कि अब प्रधानमंत्री ओली चीन के अहसानों की कीमत भारत के साथ रिश्ते खराब करके चुका रहे हैं।

चीन की हैअहम भूमिका

यह भी माना जाता है कि चीन ने नेपाल की दो सबसे बड़ी कम्युनिस्ट पार्टियों के गठबंधन में अहम भू‍मिका निभाई। 2018 में  केपी शर्मा ओली और पुष्प कमल दहल उर्फ़ प्रचंड ने नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के निर्माण के लिए हाथ मिलाया था। यहीं से नेपाल की राजनीति में नई दिल्ली के बजाय बीजिंग का प्रभाव बढ़ना शुरू हुआ। पहले नेपाल ने कभी भारत के साथ इस तरह का विवाद खड़ा नहीं किया। उसकी तरफ से कैलाश मानसरोवर यात्रा को सुगम बनाने के लिए लिपुलेख के पास भारत द्वारा किये जा रहे सड़क निर्माण पर आपत्ति नहीं उठाई गई। लेकिन अब वह भारतीय क्षेत्रों को अपना बता रहा है।  



 


    Comments

    • This game is dangerous paly china

      Commented by :Sunil viahwakarma
      23-05-2020 08:15:35

    • नेपाल भी भारत के विरूद्ध हो जाएगा तो फिर नेपाल और चीन में क्या फर्क रहेगा!

      Commented by :Shiv kumar
      22-05-2020 22:29:12

    • Nepal has to pay for this

      Commented by :Kuldeep Dubey
      22-05-2020 22:19:16

    • China playing game again !

      Commented by :Akhilesh Mishra
      22-05-2020 20:06:02

    • Ehsan k badle agar kimat chuka di jaye to wo ehsan nhi rahta.. baki nepal humare liye barf ka wo tukda hai jo pighal jayega to nuksan usi ka hoga.... gayab ho jayega

      Commented by :Ritesh singh
      22-05-2020 16:25:16

    • It's fully interference of China.

      Commented by :Prince Kumar
      22-05-2020 11:06:12

    • Oh

      Commented by :Kamlesh Kumar mishra
      22-05-2020 11:03:42

    • Nepal now in trap.

      Commented by :Sushant Kumar
      22-05-2020 10:38:07

    • Melon changes its color by looking at the melon.

      Commented by :Shambhu kr mishra
      22-05-2020 10:22:41

    • The relationship between india and Nepal is too good but Nepal is not doing fair.

      Commented by :Avinash Kumar
      22-05-2020 10:18:24

    • Ohhhhh

      Commented by :Gulshan Kumar
      22-05-2020 10:18:21

    • ओह अब यह नेपाल भी उंगली उठाने लगा wait and watch

      Commented by :Brijesh Yadav
      22-05-2020 10:10:25

    • This activity of Nepal is not fair. India should have to short this problem diplomatically as soon as possible.

      Commented by :Rajesh Kumar
      22-05-2020 09:39:20

    • Their are honesty in India.

      Commented by :Ravishankar
      22-05-2020 09:35:05

    • Ohhhhhh

      Commented by :Amit kr
      22-05-2020 09:31:37

    • Ehsaan faramosh Nepal

      Commented by :Priyanshu kumar Priyadarshi
      22-05-2020 09:29:27

    • नब्बे रुपए की चार चटाई बेचने वाले भी भारत को धमकी दे रहे हैं । #नेपाल

      Commented by :Asgar Husain
      22-05-2020 09:23:48

    • Bhart ko bhi ab nepal ki rajniti me khule taur par interfair karana hoga

      Commented by :Himanshu Singh
      22-05-2020 09:18:56

    • Ahsan faramos

      Commented by :Amit Tiwari
      22-05-2020 09:15:46

    • Selfish

      Commented by :Indrajeet Kumar yadav
      22-05-2020 09:03:23

    • नेपाल भी भारत के विरूद्ध हो जाएगा तो फिर नेपाल और चीन में क्या फर्क रहेगा!

      Commented by :Shiv kumar
      22-05-2020 08:42:41

    • नेपाल भी भारत के विरूद्ध हो जाएगा तो फिर नेपाल और चीन में क्या फर्क रहेगा!

      Commented by :Shiv kumar
      22-05-2020 08:42:39

    • Nepal should think about your prehistory so that it is better for own decision.

      Commented by :Dinesh Yadav
      22-05-2020 08:41:33

    • Selfish

      Commented by :Md Shahnawaz
      22-05-2020 08:38:38

    • We should taught nepal a befitting lesson.

      Commented by :Deo Kumar Verma
      22-05-2020 08:30:08

    • Nepal should not forget the India - Nepal friendship

      Commented by :Subrata Kumar mahato
      22-05-2020 08:28:04

    • नेपाल को सीमा विवाद नही करनी चाहिए। नेपाल भारत का अच्छा मित्र है चाइना के वजह से आपसी सबंध खराब होगे।

      Commented by :Anis Kumar Singh
      22-05-2020 08:16:51

    • Nepal is heading towards what has happened with Tibet. But this time GOI should be firm at Nepal Border and not let immigrants enter India. Nepal is a tiny country which cannot affect Indian economy even if it becomes hostile to India.

      Commented by :Mrityunjay Shukla,
      22-05-2020 07:54:35

    • Nepal will now go at the behest of China.

      Commented by :Md Iqubal
      22-05-2020 07:53:41

    • Day by day China is dominating politics of South Asia, which is not favorable for India

      Commented by :Zain
      22-05-2020 07:50:18

    • China is not good for Nepal

      Commented by :ABHISHEK DARBHANGA CIRCLE
      22-05-2020 07:49:19

    • News always useful in our life.

      Commented by :Shashank Kumar
      22-05-2020 07:48:33

    • Not good

      Commented by :Jagmohan Pandey
      22-05-2020 07:42:34

    • चिंता की बात है

      Commented by :Sushil Kumar Gautam
      22-05-2020 07:32:31

    • Deregan ke isare per kam ker reha h Nepal

      Commented by :Bhamar Singh
      22-05-2020 07:31:39

    • China ka pravwo Nepal par ye India kai liye thik nahi hai

      Commented by :Rohit gautam
      22-05-2020 07:31:17

    • Good

      Commented by :Nishikant kumar(AITM)
      22-05-2020 07:30:07

    • Nepal bharat ka achha raha hai suru se

      Commented by :Harendra Singh
      22-05-2020 07:25:03

    • Commented by :MD irfan
      22-05-2020 07:24:27

    • Load More

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends