'राजनीति के संत' कहे जाने वाले कैलाश जोशी का बीती रात हुआ निधन

Medhaj News 25 Nov 19,15:46:06 , World Viewed : 145 Times
Kailash_Joshi_.jpg

भाजपा के वरिष्ठ नेता व मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी (Kailash Joshi) का रविवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया है। कैलाश जोशी का सनावद में ससुराल होने से उनका सनावद के साथ लंबा संबंध रहा है। उनके परिजनों ने बताया पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा 1975 में इमरजेंसी लगाई गई थी। इसमें मीसाबंदियों को गिरफ्तार किया जा रहा था। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी गिरफ्तारी से बचने के लिए तीन दिनों तक अपने ससुराल सनावद में उन्होंने अज्ञातवास काटा था। इसके बाद वह यहां से अन्य स्थान के लिए रवाना हो गए थे।

कैलाश जोशी के परिवार में तीन बेटे और तीन बेटियां हैं। उनकी पत्नी का भी कुछ दिन पहले ही देहांत हुआ था.  मिली जानकारी के मुताबिक कैलाश जोशी का अंतिम संस्कार सोमवार को देवास में किया जाएगा। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निधन पर खेद जताया।





कैलाश जोशी का जन्म 14 जुलाई 1929 को देवास जिले के हाट पिपल्या तहसील में हुआ था। सन् 1955 में कैलाश जोशी हाटपिपल्या नगरपालिका के अध्यक्ष चुने गए। सन् 1962 से निरंतर बागली क्षेत्र से विधानसभा के सदस्य रहे। 1951 में भारतीय जनसंघ की स्थापना से ही सदस्य बने। आपातकाल के समय एक माह भूमिगत रहने के बाद 28 जुलाई 1975 को विधानसभा के द्वार पर गिरफ्तार होकर 19 माह तक मीसा में नजरबंद रहे। 24 जून 1977 को कैलाश जोशी मप्र के इतिहास में पहले गैर कांग्रेसी मुख्यमंत्री रहे। हालांकि 1978 में अस्वस्थता के कारण उन्होंने मुख्यमंत्री पद त्याग दिया था।



 


    0
    0

    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story