सोवियत के दो देश फिर आमने-सामने, आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच जंग शुरू

Medhaj News 28 Sep 20 , 11:39:25 World Viewed : 1116 Times
azaer.png

आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच रविवार को अलगाववादी नागोरनो-करबाख इलाके को लेकर लड़ाई शुरू हो गई। जंग में दोनों तरफ से 16 लोगों की मौत हो गई, जबकि सौ से अधिक लोग घायल हो गए। आर्मिनिया ने दावा किया कि अजरबैजान के बलों की गोलाबारी में एक महिला और एक बच्चे की मौत हुई है। वहीं, अजरबैजान के राष्ट्रपति ने कहा कि उनकी सेना को नुकसान हुआ है। आर्मीनिया ने अजरबैजान के दो हेलीकॉप्टोंर को मार गिराने और तीन टैंकों को तोप से निशाना बनाने का भी दावा किया है, लेकिन अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने इन दावों का खंडन किया है। दोनों देशों के बीच नागोरनो-करबाख पर कब्जे को लेकर विवाद है। हालांकि इस बार लड़ाई क्यों शुरू हुई है यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। जुलाई में दोनों पक्षों के बीच संघर्ष के बाद यह सबसे बड़ी लड़ाई है। जुलाई में दोनों पक्षों के कुल 16 लोगों की मौत हुई थी।

नगोरनो-करबाख के अधिकारियों ने बताया कि अजरबैजान की ओर से दागे गए गोले राजधानी स्टेपनाकेर्ट और मार्टकेर्ट एवं मार्टुनी कस्बों में गिरे।  आर्मीनिया के मानाधिकार लोकपाल अरमान टटोयान ने कहा कि हमले में एक महिला और एक बच्चे की मौत हुई है, जबकि मार्टुनी क्षेत्र में दो नागरिक घायल हुए हैं। वही आर्मीनियाई रक्षा मंत्रालय के एक अन्य प्रवक्ता सुशान स्टेपनयन ने दावा किया कि आर्मीनिया की सेना ने अजरबैजान के दो हेलीकॉप्टरों को मार गिराया और तीन टैंकों को निशाना बनाया है। अजरबैजान के राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने टेलीविजन के जरिये राष्ट्र को दिए संदेश में कहा कि आर्मीनिया की बमबारी की वजह से अजरबैजान के सैनिकों और नागरिकों का नुकसान हुआ है। हालांकि उन्होंने इसकी विस्तृत जानकारी नहीं दी। राष्ट्रपति ने दुश्मन सेना के कई यूनिट के सैन्य उपकरणों को भी नष्ट करने का दावा किया।

इस मामले में अजरबैजान के सहयोगी तुर्की में सत्तारूढ़ पार्टी के प्रवक्ता उमर सेलिक ने ट्वीट किया कि हम अजरबैजान पर आर्मीनिया के हमले की कड़ी निंदा करते हैं। उसने एक बार फिर उकसावे की कार्रवाई की है और कानूनों को नजरअंदाज किया है। उन्होंने कहा कि तुर्की अजरबैजान के साथ खड़ा रहेगा। उन्होंने कहा कि आर्मीनिया आग के साथ खेल रहा है और क्षेत्रीय शांति को खतरे में डाल रहा है। आर्मीनिया के प्रधानमंत्री निकोलस ने तुर्की को युद्ध में किसी भी तरह की भूमिका को लेकर चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि तुर्की इस संघर्ष में शामिल न हो। अगर वह इसमें शामिल पाया जाता है तो उसे इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। रूस के रक्षा मंत्रालय ने आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच जारी युद्ध को तुरंत रोकने की मांग की है। रूस ने कहा है कि वह मध्यस्थता कर सकता है, लेकिन इसके लिए युद्धविराम की तत्काल जरूरत है। रूसी विदेशमंत्री सर्जेई लावरोव दोनों पक्षों के बीच संघर्ष विराम कराने के लिए गहन संपर्क कर रहे हैं और हालात को स्थिर करने के लिए बातचीत शुरू की है। वेटिकन में कैथोलिक धर्म के शीर्ष नेता पोप ने रविवार को कहा कि वह दोनों देशों के बीच शांति के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। उन्होंने दोनों देशों से आह्वान किया कि वे सद्भावना और बंधुत्व के ठोस आधार पर संवाद के जरिये शांतिपूर्ण समाधान की पहल करें।


    8
    0

    Comments

    • Ok

      Commented by :Aditya Yadav
      29-09-2020 19:59:05

    • So sad

      Commented by :Aslam
      28-09-2020 21:48:16

    • So sad

      Commented by :Rinku Ansari
      28-09-2020 18:50:21

    • So sad

      Commented by :Sumit Kumar
      28-09-2020 12:43:04

    • Not bad news..

      Commented by :Sumit Kumar
      28-09-2020 12:42:22

    • So sad

      Commented by :Sushil Kumar Gautam
      28-09-2020 12:35:33

    • So sad

      Commented by :Govind Lal
      28-09-2020 12:26:56

    • So sad

      Commented by :Atul
      28-09-2020 11:46:20

    • Load More

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story