रूस ने सबसे पहले वैक्सीन बनाकर दुनियाभर के एक्सपर्ट को चौंकाया ?

Medhaj News 27 Oct 20 , 12:19:22 World Viewed : 850 Times
vaccine.png

रूस ने ही दुनिया में सबसे पहले कोरोना वायरस की वैक्सीन (Corona virus vaccine) बनाने का दावा किया था | हालांकि रशियन वैक्सीन (Russian vaccine) पर WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन), अमेरिका और दुनिया के तमाम बड़े एक्सपर्ट्स शुरू से ही भरोसा नहीं दिखा रहे थे | अब एक नई स्टडी में रूस की उसी वैक्सीन को पूरी तरह से सुरक्षित और असरदार बताया गया है | 'दि लैंसिट' में शुक्रवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, शुरुआती स्टेज के एक नॉन-रैंडमाइज्ड वैक्सीन ट्रायल में दवा के अच्छे नतीजे सामने आए हैं | वैक्सीन के दो फॉर्म्यूलेशन के 76 लोगों पर ट्रायल के बाद 42 दिनों में सेफ्टी प्रोफाइल का पता लगा है | साथ ही 21 दिनों के भीतर ही सभी वॉलंटियर्स में एंटीबॉडी (Antibody) का अच्छा रिस्पॉन्स देखने को मिला | शोधकर्ताओं ने रिपोर्ट में यह भी दावा किया है कि 28 दिनों में वैक्सीन एक बॉडी में टी-सेल्स भी जेनरेट करता है, जो बॉडी को वायरस से लड़ने की ताकत देते हैं | यह रिपोर्ट 42 दिनों तक चलने वाले छोटे स्तर के दो ट्रायल्स पर आधारित है | पहले ट्रायल में वैक्सीन के फ्रोजन फॉर्म्यूलेशन और दूसरे ट्रायल में लायोफिलाइज्ड (फ्रीज ड्रायड) फॉर्म्यूलेशन की जांच की गई | 

वैक्सीन के दोनों हिस्से जिनमें 'ह्यूमन एडिनोवायरस टाइप-26' (rAd26-S) और 'ह्यूमन एडिनोवायरस  टाइप-5' (rAd5-S) का रीकॉम्बिनेंट शामिल है, SARS-CoV-2 के स्पाइक प्रोटीन के रूप में मोडीफाई किया गया था | दोनों स्टेज के ट्रायल में दवा की पूर्ति और उसे स्टोर करके रखने का भी पूरा ध्यान रखा गया था | ये वैक्सीन हाथ की मांसपेशियों के जरिए शरीर में दाखिल की जाती है, जिसके बाद इम्यून सिस्टम (Immune System) पर इसका असर दिखना शुरू हो जाता है | एंटीबॉडी और टी-सेल्स जेनरेट होने के बाद वो शरीर में फैले वायरस और SARS-CoV-2 के इन्फेक्टेड सेल्स को अपना निशाना बनाते हैं | रूस की इस वैक्सीन का नाम Sputnik V है, जिसे 'गमालेया नेशनल रिसर्च सेंटर फॉर एपिडेमायोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी' ने विकसित किया है | इस शोध के प्रमुख लेखक डेनिस लोगुनोव ने बताया कि एडिनोवायरस वैक्सीन के मानव कोशिका में दाखिल होते ही वो SARS-CoV-2 का स्पाइक प्रोटीन जेनेटिक कोड डिलीवर करना शुरू कर देता है, जो कि कोशिकाओं के स्पाइक प्रोटीन प्रोड्यूस करने का कारण है | लोगुनोव का कहना है कि वैक्सीन इम्यून को वायरस और खतरे की पहचान कर उसे टारगेट करने में मदद करती है | ये ट्रायल रशिया के ही दो अस्पतालों में हुए हैं | इन दोनों नॉन-रैंडमाइज्ड ट्रायल में वॉलंटियर्स को पहले से पता था कि उन्हें वैक्सीन दी जा रही है | ट्रायल में 18 से 60 साल की उम्र के हेल्दी लोगों को ही शामिल किया गया था | वैक्सीन देने के बाद इन सभी वॉलंटियर्स को पहले 28 दिन अस्पताल में ही रखा गया था | वैक्सीन दिए जाने के बाद वॉलंटियर्स ने इंजेक्शन वाले हिस्से में दर्द, हाइपरथीमिया, सिरदर्द, कमजोरी, ऊर्जा की कमी, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द महसूस किया | शोधकर्ताओं का कहना है कि ये लक्षण आमतौर पर सभी वैक्सीन में देखने को मिलते है, खासतौर से जो 'रीकॉम्बिनेंट वायरल वेक्टर' पर आधारित हों | 



 


    3
    0

    Comments

    • Ok

      Commented by :Sushil Kumar Gautam
      27-10-2020 15:23:32

    • Good

      Commented by :Bal Gangadhar Tilak
      27-10-2020 14:44:59

    • Ok

      Commented by :Gaurav Lohani
      27-10-2020 13:07:47

    • Good news

      Commented by :Saddam husain
      27-10-2020 12:43:05

    • Load More

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story