भारत के विपक्ष में बोलने पर नेपाली पीएम ओली को खुद के विदेश मंत्री ने दिया जवाब

भारत के विपक्ष में बोलने पर नेपाली पीएम ओली को खुद के विदेश मंत्री ने दिया जवाब
नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली, भारत के खिलाफ लगातार कुछ ना कुछ बयान बाजी कर रहे हैं। उनके इस बर्ताव को भारत पहले ही चीन समर्थित बता चुका है। भारत ने नेपाल को पहले ही चीन की कठपुतली बनने पर आगाह किया है। चीन लगातार अपने मंसूबों से भारत को परेशानी में डालता रहा है इसका जवाब भारत ने भी अच्छी तरह से उसे दिया है पर क्योंकि नेपाल के भारत से पुराने संबंध है इसलिए भारत नेपाल को आगाह ही कर रहा है। केपी शर्मा ओली भारत विरोधी बयान पर नेपाल के विदेश मंत्री ने कहा है की कोई भी नेपाल और भारत के रिश्ते में कड़वाहट घोलने की कोशिश ना करें।
भारत और नेपाल के रिश्ते में खटास तब आई जब नेपाल ने अपने नए नक्शे में लिपुलेख और काला पानी जैसे इलाकों को शामिल कर लिया। भारत में लिपुलेख में मानसरोवर यात्रा करने वाले भक्तों के लिए दर्रा बनाया था जिससे की रास्ता सुगम हो सके इस पर नेपाल ने कड़ी आपत्ति जताते हुए इसे असंवैधानिक बताया था। नेपाली विदेश मंत्री ग्यावली ने कहा द्विपक्षीय रिश्तो में किसी को भी कड़वाहट नहीं होनी चाहिए और सबको इसे सुधारने में सहायता देनी चाहिए। हम भारत के साथ लगातार संपर्क में हैं और चीजों को बातचीत के साथ सुलझाने में समर्थ है। यह विवाद हमें इतिहास से मिला है और हम इसे बातचीत से सुलझा लेंगे ना की भावनाएं भड़का कर।

    Share this story