अफ्रीका में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण न हो पाने की वजह से संक्रमण का खतरा 

WHO

नैरोबी (एजेंसी) | विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के एक अधिकारी ने के मुताबिक 10 में से 9 अफ्रीकी देश इस साल सितंबर तक अपनी 10 फीसदी आबादी को कोविड-19 वैक्सीन देने के लक्ष्य से चूक सकते हैं। अफ्रीका के लिए डब्ल्यूएचओ के क्षेत्रीय निदेशक मत्शिदिसो मोएती ने गुरुवार को समाचार एजेंसी सिन्हुआ को बताया कि अगले तीन महीनों में वायरस के खिलाफ अपनी 10 प्रतिशत आबादी को टीका लगाने के मामले में लगभग 90 प्रतिशत या 54 अफ्रीकी देशों में से 47 दिशाहीन हैं।

मोइती ने एक बयान में कहा, अफ्रीका की अधिकांश जनता हमेशा खतरे में रह रही है। अफ्रीका में अगर कोरोना की तीसरी लहर आती है, तो पूरे अफ्रीका में संक्रमण का खतरा है क्योंकि यहां तय समय तक वैक्सीनेशन का प्रोग्राम पूरा नहीं हो सकेगा।

अफ्रीकन सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (अफ्रीका सीडीसी) के आंकड़े बताते हैं कि महाद्वीप ने 5.49 करोड़ वैक्सीन खुराक हासिल कर ली थी और 7 जून तक 3.59 करोड़ टीके लगाए जा चुके हैं।

अफ्रीका सीडीसी के अनुसार, शीर्ष पांच अफ्रीकी देश जिन्होंने कोविड-19 टीकाकरण का नेतृत्व किया है, उनमें मोरक्को, मिस्र, नाइजीरिया, इथियोपिया और दक्षिण अफ्रीका शामिल हैं।

मोएती ने कहा कि अफ्रीका को 10 प्रतिशत टीकाकरण लक्ष्य प्राप्त करने के लिए 22.5 करोड़ खुराक की आवश्यकता है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, अफ्रीका के 20 देशों ने कोवैक्स सुविधा के तहत प्राप्त टीके की 50 प्रतिशत से कम खुराक का उपयोग किया है, जबकि 12 में एस्ट्राजेनेका की 10 प्रतिशत से अधिक खुराक अगस्त के अंत तक समाप्त होने का खतरा है।
 

Share this story